Get All India Board Examination Results 2020

12वीं कक्षा में 90 प्रतिशत अंक कैसे प्राप्त करें

मुख्य रूप से 2 प्रमुख कारक हैं जो यह तय करेंगे कि आप कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में कैसे स्कोर करेंगे।

1. आपने पाठ्यक्रम को कितनी अच्छी तरह से संशोधित किया है?
2. परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों का आप कितना सही उत्तर दे सकते हैं?

बिंदु 1 -
अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए सबसे पहले पूरे पाठ्यक्रम को अच्छी तरह से संशोधित किया जाना चाहिए। पूरे पाठ्यक्रम को कवर करने वाले नोट्स बनाने चाहिए।  दैनिक अध्ययन, संशोधन और बार-बार ऐसे कारकों पर नोट्स बनाकर ध्यान देना चाहिए जो आपको कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में 90% स्कोर करने में मदद कर सकते हैं। आपको अपनी गलतियों का मूल्यांकन करना चाहिए और जिस पर भी आप कमजोर हैं उस पर और अधिक मेहनत करनी चाहिए। यह एक अध्याय या संपूर्ण विषय भी हो सकता है आपको इन पर पूरा ध्यान लगाने की आवश्यकता है। अगर आपको लगता है कि आप इस पर कमजोर हैं तो आपको इस पर अधिक से अधिक समय देना चाहिए। अंतिम क्षणों के लिए संशोधन को छोड़ देना आपको बहुत हानि पहुंचा सकता है। परीक्षा से पहले के आखिरी कुछ दिन आपके शरीर और दिमाग को आराम देने का समय होता है। इसलिए आप इस समय आराम करें और अपने दिमाग और शरीर को शांत करें क्योंकि थका हुआ शरीर और थका हुआ दिमाग आपको कभी अच्छे परिणाम नहीं दे सकता है इसलिए आपका ऊर्जावान बने रहना अति आवश्यक है।


बिंदु 2 –
सवालों को पढ़ते समय यह समझें कि उसमें क्या पूछा गया है तभी उतर दें। अधिकांश छात्र केवल आधा प्रश्न पढ़ते हैं और गलत उत्तर दे देते हैं। बिंदूओं में उत्तर देना सबसे अच्छा होता है। सब कुछ बड़े ध्यान से देखा जाना चाहिए क्योंकि परीक्षक आपकी प्रतिक्रियाओं को देखता है और जानता है कि आपने वही सब उत्तर दिया है जिसका जवाब सवाल में मांगा गया है। 

तैयारी के लिए सलाह:

• अध्ययन करने के लिए एक उचित योजना बनाएं। सभी विषयों को पूरा करने के लिए कठिन सवालों से शुरुआत करें। 
• गणित के फार्मूले को हमेशा अच्छे से ध्यान में रखें। विषय में दक्षता हासिल करने के लिए बहुत सारे गणित के सवालों का अभ्यास करना चाहिए आप जितना अभ्यास करेगें उतना ही सफल हो पाएगें।
• स्व अध्ययन और आत्म मूल्यांकन पर समय समर्पित करें
• निर्धारित समय के भीतर अधिक से अधिक सैंपल पेपर हल करने का प्रयास करें। इससे आपको समय का प्रबंधन करने में भी मदद मिलेगी।
• दैनिक आधार पर संशोधन के लिए कभी भी समय न गंवाएं।
• तैयारी करते समय, यदि आपको महसूस होता है कि आप किसी विशेष विषय की समस्याओं को हल करने में कठिनाई महसूस कर रहे हैं, तो अपने शिक्षक की मदद लेने में बिल्कुल भी संकोच न करें।
• शरीर और मन को तनावमुक्त रखने के लिए अच्छी नींद लें।
• हमेशा अच्छा और पौष्टिक भोजन खाना खाएं।

परीक्षा के दिन:

• सुबह की शुरुआत सूत्र और महत्वपूर्ण विषयों की समीक्षा के साथ होनी चाहिए।
• परीक्षा के प्रति हमेशा सकारात्मक दृष्टिकोण रखें और अपने बारे में आश्वस्त रहें।

परीक्षा के दौरान:

• पहले जिस प्रश्न का उत्तर देना चाहते हैं, उसका चयन करने के लिए समझदारी से उसका निर्णय लें।
• प्रस्तुतिकरण बहुत महत्वपूर्ण होता है। उचित मार्जिन और रेखांकित के साथ, उत्तर पुस्तिका को साफ और सुव्यवस्थित कर रखना चाहिए।
• किसी विशेष प्रश्न पर अटकने में समय बर्बाद न करें यदि आप हल करने में सक्षम नहीं हैं, तो उसका स्थान छोड़ दें और अगले प्रश्न की ओर आगे बढ़ें।
• यदि आपको गणित के प्रश्नों का पूरा समाधान पता नहीं है तो गणित के योग को हल करने के लिए ज्ञात चरणों तक लिखने का प्रयास करें आपको जहां तक आता है वहां तक का समाधान करें।
• अंतिम 10 मिनट केवल उत्तर पुस्तिकाओं को संशोधित करने के लिए बचा कर रखें ताकि कोई भी गलती होने पर आप उसे सुधार सकें।

कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा में 90% स्कोर करने के लिए अक्सर पूछे जाने वाले सवाल-

 
1. क्या कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में प्रस्तुति एक भूमिका निभाती है?
हाँ यह भूमिका निभाती है। जिस तरह से आपके काम को परीक्षक के सामने प्रस्तुत किया जाता है, वो परीक्षक पर पड़ने वाले प्रभाव को निर्धारित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यदि आपका लिखा गया साफ, स्पष्ट एवं सटिक होगा तो परीक्षक आपके काम को सही अंक देगा। 

बड़े करीने से लिखे गए उत्तर उत्तरपुस्तिका, काट पिट कर लिखी गई उत्तरपुस्तिका की तुलना में परीक्षक को अधिक प्रभावित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इसलिए, ऐसा कुछ करना चाहिए जिससे परीक्षक को उत्तर पुस्तिका की जांच करने में आसानी हो, वो इसे सही से चेक कर सके। कई छात्र ऐसे होते हैं जो पढ़ाई में बहुत अच्छे होते हैं, लेकिन खराब प्रस्तुति के कारण उन्हे कम अंक प्राप्त होते हैं। इसके अलावा, ऐसे उदाहरण भी हैं जब वास्तव में छात्र इतना अच्छा नहीं होता है, लेकिन एक उत्कृष्ट प्रस्तुति के कारण ऐसे अंक प्राप्त करता हैं, जो उसकी अपेक्षा से अधिक होता है। लेकिन, एक बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि ये सभी चीजें आपके द्वारा परीक्षा की अच्छी तैयारी करने के बाद ही आती हैं। यदि आप किसी व्यंजन को अच्छी तरह से सजाकर पेश करते हैं वो देखने में तो आकर्षक होती है लेकिन यदि उसमें स्वाद नहीं है तो आपकी सारी सजावट धरी की धरी रह जाएगी। इसलिए सजावट के साथ आपकी विषय पर तैयारी होनी आवश्यक है। 

2. पढ़ाई करते समय कमजोरियों को कैसे दूर करें?
कई बार ऐसा भी हो सकता है कि आपको किसी छोटी या बड़ी हार का सामना करना पड़ता है और वह उत्सव और खुशी का समय भी हो सकता है। लेकिन, याद रखने वाली सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि असफलता न तो अवसाद का कारण बनती है और ना ही सफलता प्रसन्नता का कारण बनती है। आपको हर परिस्थिति में अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्र होना चाहिए।
 

3. कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाओं में 90% स्कोर करने के लिए रोजाना कितने घंटे का अध्ययन करना चाहिए?
कोई भी व्यक्ति जन्मजात श्रेष्ठ नहीं होता। अगर उन्हें कुछ बड़ा हासिल करना है तो उन्हें बहुत मेहनत करनी चाहिए। हां, ऐसे लोग हैं जो किसी विशेष चीज के लिए एक योग्यता रखते हैं एवं उसके लिए जन्मजात प्रतिभा रखते हैं। लेकिन कोई भी व्यक्ति केवल कड़ी मेहनत, उचित मार्गदर्शन और सुव्यवस्थित तैयारी के साथ ही उत्कृष्ट अंक प्राप्त कर सकता है। इसके लिए परीश्रम आवश्यक है।

4. क्या प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने से हमें कक्षा 12वीं के बोर्ड में उत्कृष्ट अंक प्राप्त करने में मदद मिलती है?
हाँ। जेईई जैसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने से आपको अपनी कक्षा 12 के बोर्ड की परीक्षा की तैयारियों को करने में मदद मिल सकती है। आधी तैयारी तब हो जाती है जब आप जेईई और अन्य प्रवेश परीक्षाओं के लिए फॉर्मूला और जोड़ का अभ्यास शुरू करते हैं।

5. अंग्रेजी को कई लोगों के लिए बहुत कठिन माना जाता है। हम इस विषय में 90 अंकों से ऊपर कैसे स्कोर कर सकते हैं?
दो चीजें हैं जो अंग्रेजी के पेपर के लिए मूल आधार बनाती हैं। वो है अंग्रेजी विषय में रुचि और अंग्रेजी में समग्र दक्षता और ज्ञान। साहित्य अनुभाग के लिए, अंग्रेजी की पुस्तकों को आप केवल कहानी की पुस्तक के रुप में ना पढ़े बल्कि उसके अर्थ की गहराई में जाएं। उसके अर्थ को समझें। संपूर्ण कविताओं, निबंधों और कहानियों के माध्यम से जाने के बाद, पात्रों के बारे में विश्लेषण करना शुरू करें और अपनी भाषा में उनके बारे में मूल राय बनाएं।

प्रश्नों का उत्तर देते समय अपने स्वयं के भावों और पुस्तक के अर्थों का उपयोग करना भी बहुत महत्वपूर्ण है। आप उत्तर को समझ कर अपने शब्दों और भावों में भी लिख सकते हैं। हालाँकि, यदि आप पुस्तक से बहुत अधिक याद करते हुए लिखते हैं, तो इससे यह आभास भी हो सकता है कि आपने वास्तव में कहानी, निबंध या कविता को समझे बिना ही सब कुछ याद कर लिया है और रटा मार कर लिख दिया है। दूसरी ओर, यदि आप केवल अपनी भाषा का उपयोग करके पूरी तरह से उत्तर लिखते हैं, तो यह परीक्षक को यह संदेश दे सकता है कि आपने वास्तव में केवल पुस्तक ही नहीं पढ़ी है बल्कि उसके भावों को भी समझा है जिसे आप बेतरतीब ढंग से लिख रहे हैं। 

अपनी रचनात्मकता को यह लेखन कौशल अनुभाग में में बढ़ाएं। शब्द सीमा के भीतर आप जितने बिंदु फिट कर सकते हैं, उतने ही सुंदर तरीके से शामिल करें। लेकिन आपको विशिष्ट प्रारूपों से चिपके रहने पर ध्यान रखना चाहिए। यह भी देखना चाहिए कि आप एक ही बात को बार-बार तो नहीं दोहरा रहे हैं। 

अंत में, हमेशा अपने आप में पढ़ने की आदतों को विकसित करने और अपनी अंग्रेजी दक्षता में सुधार करने की कोशिश करना सबसे अच्छी बात है। न केवल यह आदत आपको एक अच्छा स्कोर प्राप्त करने में मदद करेगी, बल्कि लंबे समय तक आपके करियर के विकास में मदद करेगी। विशेष रूप से उन छात्रों के लिए जो कक्षा छठी से नौवीं कक्षा में हैं, उन्हें परीक्षा तक इस बिंदु पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

6. तैयारी करते समय हमें प्रत्येक विषय को कितना समय देना चाहिए?
कोई भी विषय कितना भी आसान क्यों न लगे, आपको उस पर उतना ही अभ्यास करना चाहिए जितना आप अन्य पर करते हैं। आपको परीक्षा से पहले दो महीनों के लिए किसी भी विषय को नहीं छोड़ना चाहिए, क्योंकि पांच विषयों को संशोधित करना के लिए आपके पास सिर्फ एक महीना शेष होता है। आपके लिए इसके साथ न्याय करना कठिन होगा। हालाँकि, आप अपने काम को इस तरह से शेड्यूल कर सकते हैं ताकि आप उन विषयों के साथ अधिक समय बिता सकें जो आपको कठिन लगते हैं। लेकिन, आपको कभी भी किसी विषय को पूरी तरह से छोड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।


7. परीक्षा के तनाव से कैसे बचें?
हमेशा याद रखना चाहिए कि परीक्षा से पहले और उसके दौरान घबराहट होना बहुत स्वाभाविक है। तनाव को थोड़ा कम करना काफी मददगार होता क्योंकि यह आपको बहुत अच्छे प्रयास में मदद करता है। तनाव का मूल केवल मनोवैज्ञानिक है।  ऐसे लोगों के साथ बात करना जो आपके बहुत करीब हैं, बहुत मददगार साबित हो सकता है। पढ़ाई से मन हटाने के लिए आपको अपने शौक के अनुसार कोई खेल या कार्य करना चाहिए जिससे आपका दिमाग तरोताजा हो जाए। 

8. कक्षा 12 में 90% से ऊपर अंक हासिल करने वाले कुछ लोगों का सीक्रेट मंत्र क्या है?
सीबीएसई कक्षा 12 में 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने के लिए आपको व्यवस्थित तैयारी, लगातार कड़ी मेहनत, घर और स्कूल में उचित वातावरण की आवश्यकता होती है। 90 प्रतिशत अंक प्राप्त करने के लिए न तो पढ़ाई में अपना सारा समय देने की कोई जरूरत है और न ही आपको अपने हितों का पूरी तरह से त्याग करने की आवश्यकता है। सही संतुलन आपको आपके लक्ष्य तक पहुंचा सकता है। 

9. मैथ, फिजिक्स और केमिस्ट्री में 100 अंक कैसे प्राप्त करें। हमें इस तरह के उत्कृष्ट अंक प्राप्त करने की तैयारी कैसे करनी चाहिए?
चाहे  केमिस्ट्री हो, मैथ हो, फिजिक्स या कोई भी अन्य विषय जैसे अंग्रेजी हो, आपका एकमात्र उद्देश्य केवल 100 प्रतिशत स्कोर करना होना चाहिए। ऐसा कोई विषय नहीं है जो अन्य से कम महत्वपूर्ण है यदि आप अपनी कक्षा 12 में 90 प्रतिशत से अधिक अंक अर्जित करना चाहते हैं तो इसके लिए  पाठ्यक्रम के सभी अध्यायों एवं भागों को समान महत्व दिया जाना चाहिए ताकि यह आपको 100 प्रतिशत अंक अर्जित करने में मदद करें।
 
आपको शुभकामनाएं!!

Connect me with the Top Colleges