Get All India Board Examination Results 2020

कला निर्देशक

यदि आप में रचनात्मक सोचने की क्षमता है तो कला निर्देशन का क्षेत्र आपके लिए ही है। एक कला निर्देशक अखबारों, पत्रिकाओं, उत्पाद पैकेजिंग और टेलीविजन और फिल्म प्रस्तुतियों में दृश्य शैली और छवियों की देखरेख करता है। एक कला निर्देशक आमतौर पर समग्र डिजाइन विभाग के लिए जिम्मेदार होता है और संपादक और फोटो संपादकों के साथ मिलकर काम करता है। वे दूसरों को निर्देशित करते हैं जो कलाकृतियों और डिजाइन लेआउट बनाते हैं।
आज के समय मे मनोरंजन बहुत जोर-शोर के साथ ग्रोथ कर रही है। दिन-प्रतिदिन फिल्मो, टीवी सीरियल, टीवी शो, रियलिटी शो आ रहे हैं इनके लिये आर्ट  की बहुत ज्यादा डिमांड रहती है। आर्ट डायरेक्शन में आपके लिए काम की कमी नही है, क्योकि यह इंडस्ट्री ऐसी है, जोकि दिन व दिन बढ़ती ही जा रही है, इसलिए इसमे हर तरह के काम करने वाले लोगो की यंहा हर समय जरूरत होती है। इसलिए इस क्षेत्र में रोजगार की कमी नही है। अगर आपके पास थोड़ा भी टैलेंट है, तो आप आसानी से इस फील्ड में अपने लिए जगह बना लेंगे।

कला निर्देशक यानि आर्ट डायरेक्टर निर्देशन का काम करता है। जो एक आदमी का काम नही होता है, इसमे एक पूरी टीम होती है, जो अपने-अपने कामो में एक्पर्ट होती है, जैसे पेंटर, कारपेंटर, डिज़ाइनर, प्लम्बर, एनिमेटर, ग्राफ़िक डिज़ाइनर, वीएफएक्स, इलस्ट्रेटर, स्टोरीबोर्ड आर्टिस्ट, मॉडल मेकर, सेट डेकोरेटर, सेट ड्रेसर आदि लोग इस टीम में काम करते हैं। जिस तरह आपको अपना घर बनाने से लेकर उसकी फिटिंग, साज-सजावट, लाइटिंग या अन्य जो भी काम होते है, ठीक इसी तरह फ़िल्म सेट डिजाइनिंग में भी  काम होता है। और सैकड़ो लोगो की टीम मिलकर ये काम करती है। 

एक कला निर्देशक की भूमिका

काल निर्देशक का काम फ़िल्म, टीवी सीरियल, टीवी शो आदि के लिए जरूरत के मुताबिक सेट डिज़ाइन करना होता है। एक फ़िल्म डायरेक्टर सीन को जिस तरह से लेना चाहता है, कला निर्देशक अपनीं क्रिएटिविटी के द्वारा उसी तरह का डिजाइन करके सीन के मुताबिक वातावरण को सेट करता है। इसके अतिरिक्तः
  • दृश्य संचार मीडिया के लिए डिजाइन अवधारणाओं को तैयार करता है।
  • तस्वीरों, कला और अन्य डिजाइन तत्वों का उपयोग करने के लिए चयन करता है।
  • कला निर्देशक एक प्रकाशन, एक विज्ञापन अभियान, या एक थिएटर, टेलीविजन, या फिल्म सेट के समग्र रूप और दृश्य के लिए जिम्मेदार होता है।
  • डिजाइन के कार्यान्वयन के लिए अन्य डिजाइन कर्मचारियों को निर्देश और पर्यवेक्षण करना।
  • स्टाफ सदस्य द्वारा विकसित डिजाइन, कलाकृति, फोटोग्राफी और ग्राफिक्स की समीक्षा करना।
  • एक कलात्मक दृष्टिकोण और शैली विकसित करने के लिए ग्राहकों के साथ समन्वय करना।
  • कला निर्देशक ग्राहकों के लिए प्रस्तुतियों पर काम करता है।
  • खातों और परियोजनाओं का प्रबंधन और बजट और समय सीमा के लिए जिम्मेदार होता है।
  • टीवी सीरियल में सेट डिजाइनिंग का काम करना।
  • रियलिटी शो के लिए स्टेज, सेट डिज़ाइन करना।
  • विज्ञापन फिल्मो में भी कला निर्देशक के तौर पर काम करना।
  • रैंप मॉडलिंग के लिए सेट डिजाइनिंग करना। 
  • थिएटर शो में सेट डिजाइनिंग करना।

एक कला निर्देशक के लिए आवश्यक कौशल

रचनात्मकता: एक कला निर्देशक को रचनात्मक रूप से सोचने और नए डिजाइन और सेट बनाने में सक्षम होना चाहिए।

कंप्यूटर कौशल: एक कला निर्देशक को अच्छा कंप्यूटर ज्ञान होना चाहिए क्योंकि इन दिनों अधिकांश डिजाइन, चित्र और चित्र कंप्यूटर पर विकसित और निर्मित होते हैं। एक कला निर्देशक को आज के नौकरी के बाजार में जीवित रहने के लिए विभिन्न कंप्यूटर प्रोग्राम सीखना चाहिए।

संचार कौशल: कला निर्देशकों में उत्कृष्ट संचार कौशल होना चाहिए। उन्हें ग्राहकों से बात करने और उनकी जरूरतों और आवश्यकताओं को समझने की आवश्यकता होती है। कला निर्देशकों को अन्य डिजाइनरों, संपादकों और चित्रकारों के साथ भी बातचीत करनी होती है।

नेतृत्व कौशल: दूसरों को व्यवस्थित करने, प्रेरित करने और निर्देशित करने के लिए कला निर्देशकों की आवश्यकता होती है। उन्हें यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि परियोजना समय पर पूरी हो।

समस्या को सुलझाने का कौशल: एक कला निर्देशक को विचारों का विश्लेषण करना चाहिए और ताकत और कमजोरियों को निर्धारित करने के लिए तर्क का उपयोग करना चाहिए।

एक कला निर्देशक के पेशेवरों के लिए पक्ष और विपक्ष की बातें

पक्ष
  • सुंदर वेतन।
  • एक अपनी रचनात्मकता को प्रदर्शित कर सकता है।
  • बोर होने की कोई गुंजाइश नहीं है क्योंकि एक नए ग्राहकों के लिए लगातार डिजाइन किया जा रहा है।
  • घर से काम करने का विकल्प।
विपक्ष
इरेटिक वर्किंग शेड्यूल।
आप केवल कई वर्षों के अनुभव के बाद सीढ़ी पर चढ़ सकते हैं।
कला निर्देशक को हमेशा हर डिज़ाइन में मौलिकता प्रदर्शित करनी चाहिए।
लिबरल आर्ट्स और मानविकी के तहत करियर की सूची पर क्लिक करें।

आवश्यक योग्यता

कला निर्देशक बनने के लिए आज कई पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स उपलब्ध हैं। स्नातक स्तर पर भी अलग-अलग संस्थान कोर्स कराते हैं। बैचलर कोर्स में दाखिला लेने के लिए न्यूनतम योग्यता बारहवीं है। जबकि पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स के लिए न्यूनतम 40 प्रतिशत अंकों के साथ ग्रेजुएट की डिग्री होना अनिवार्य है. साउंड एडिटिंग और कुछ अन्य तकनीकी कोर्सों में दाखिले के लिए साइंस बैकग्राउंड से ग्रेजुएट होना भी जरूरी है।

Connect me with the Top Colleges