Get All India Board Examination Results 2020

ग्राफिक डिजाइनर

यदि रंग, डिजाइन और चित्र आपको अपनी आकर्षित करते हैं, यदि आपको भी रचनात्मक चीजें करना पसंद है, यदि आप भी हर पल कुछ नया करने का शौक रखते हैं  तो ग्राफिक डिजाइनिंग आपके करियर के लिए सही विकल्प है। ग्राफिक डिजाइनर कंप्यूटर जनित छवियों, तस्वीरों, चित्रों और चित्रों के साथ काम करते हैं ताकि संदेश दिया जा सके। वे अपने ग्राहकों के लिए लोगो, वेबसाइट, विज्ञापन, ब्रोशर और चित्र तैयार करते हैं। विजुअल और ग्राफिक आर्ट का इन दिनों इस्तेमाल बहुत बढ़ गया है इसीलिए यहां संभावनाएं भी अधिक हैं। ग्राफिक डिजाइनर का काम अपने क्लाइंट के लिए ऐसे क्रिएटिव आइडिया तैयार करना होता है, जो उसके क्लाइंट के इंस्टीिट्यूट को अलग पहचान दे सकें। इस काम के लिए क्रिएटिविटी सबसे पहली जरूरत है। इसके अलावा, इंडस्ट्री के ट्रेंड्स की पूरी जानकारी, ग्राफिक डिजाइनिंग के क्षेत्र में नए सॉफ्टवेयर्स की जानकारी, प्रोफेशनल अप्रोच और काम को समय पर पूरी करने की योग्यता होनी भी जरूरी है।

ग्राफ़िक डिज़ाइनर का काम

ग्राफ़िक डिज़ाइनर का काम होता है किसी भी सादी सी तस्वीर को अपने तरह से नया एंगल देना, जिससे वो आकर्षक लग सके। इसके साथ ही ग्राफ़िक डिज़ाइनर का मार्केटिंग में भी महत्वपूर्ण योगदान होता है। ग्राफ़िक डिज़ाइनर को अपने क्लाइंट और मार्किट की मांग के अनुसार कुछ ऐसा काम करना होता है जो उन्हें बेहतर पहचान दे सके। एक अच्छा ग्राफ़िक डिज़ाइनर बनने के लिए आपको इंडस्ट्री के पिछले और मौजूदा ट्रेंड्स, नए सॉफ्टवेयर, नेटवर्किंग और कम समय में बेहतरीन काम करने कि जानकारी होना चाहिए।  आज कई समाचार पत्रों, पत्रिकताओं एवं नए उभरते हुई सोशल मीडिया में ग्राफिक्स डिजाइनर ही उसका लेआउट, डिजाइनिंग इत्यादि बनाते हैं। दिन-प्रतिदिन इनका काम और उनकी मांग बढ़ती जा रही है।

एक ग्राफिक डिजाइनर की भूमिका

  • क्लाइंट और आर्ट डायरेक्टर के साथ प्रोजेक्ट पर चर्चा करता है।
  • ग्राफिक डिजाइनिंग के माध्यम से लक्षित दर्शकों को आकर्षित करने के विभिन्न विकल्प प्रदान करता है।
  • किसी उत्पाद की पहचान करने या संदेश देने के लिए चित्र बनाता है।
  • लोगो विकसित करना, वेबसाइटें बनाना और लक्ष्य विशिष्ट दर्शकों के लिए चित्र बनाना।
  • छवियों को डिज़ाइन करने के लिए सॉफ़्टवेयर पैकेज का उपयोग करना।
  • ग्राहकों के साथ चर्चा के बाद लेआउट, फ़ॉन्ट, रंग और टैग लाइनों का चयन करना।
ग्राफिक डिजाइनर निम्नानुसार काम कर सकते हैं:
  • कला निर्देशक
  • एनिमेटर
  • लोगो डिजाइनर
  • वेब डिजाइनर
  • फ्लैश डिजाइनर
  • इलस्ट्रेटर

एक ग्राफिक डिजाइनर के लिए आवश्यक कौशल

रचनात्मकता: बॉक्स से बाहर की छवियां और डिजाइन सोचने और बनाने की क्षमता एक ग्राफिक डिजाइनर की एक अनिवार्य विशेषता है। ग्राफिक डिजाइनर में रचनात्मक सोचने एवं करने का कौशल अवश्य होना चाहिए।

कंप्यूटर कौशल: एक अच्छे ग्राफिक डिजाइनर के लिए मजबूत कंप्यूटर कौशल की आवश्यकता होती है। एक ग्राफिक डिजाइनर के लिए ग्राहकों द्वारा बताए गए कार्य को करने के लिए चित्र और ग्राफिक्स बनाने के लिए नवीनतम सॉफ्टवेयर पैकेजों का ज्ञान आवश्य होना चाहिए।

संचार: एक ग्राफिक डिजाइनर के अंदर संचार कौशल आवश्यक हैं क्योंकि ग्राहकों, कला निर्देशक, और वेब डेवलपर्स से बातचीत करने की आवश्यकता होती है। ग्राहक और लक्षित दर्शकों की आवश्यकता को समझना ग्राफिक डिजाइनिंग का अभिन्न अंग है।

समय प्रबंधन: ग्राफिक डिजाइनर बेहद सख्त समय सीमा पर काम करते हैं। कई मामलों में, वे कई परियोजनाओं पर काम करते हैं और सभी को एक समान समय देने का का प्रबंधन उन्हें आना चाहिए। 

टीम कार्यकर्ता: एक ग्राफिक डिजाइनर को एक टीम कार्यकर्ता होना चाहिए। उन्हें अक्सर प्रोग्रामर, संपादकों और निर्देशकों के साथ परियोजनाओं पर काम करना पड़ता है। जिसके तहत उन्हें टींम के साथ सामंजस्य बिठाना एवं कार्य करना आना चाहिए। 

एक ग्राफिक डिजाइनर के पक्ष और विपक्ष की बातें

पक्ष
  • नवीनतम सॉफ़्टवेयर के साथ काम करना और नए डिज़ाइन कौशल सीखना और लागू करना।
  • काम बेहद गतिशील है और बोरियत की कोई गुंजाइश नहीं होती।
  • आप एक फ्रीलांसर के रूप में काम करके अपने खुद के मालिक हो सकते हैं। आप घर से भी काम कर सकते हैं यदि आपके पास अपने सिस्टम का सारा सॉफ्टवेयर है।
  • अगले 10 वर्षों में ग्राफिक डिजाइनरों की मांग बढ़ने की उम्मीद है।
  • ग्राफिक डिजाइनर एक सुंदर वेतन कमाते हैं।
विपक्ष
  • सख्त समय सीमा और अनिश्चित काम शेड्यूल।
  • कई बार, आपको अपनी रचनात्मकता के साथ समझौता करना पड़ता है, और ग्राहकों की माँग के अनुसार काम करना पड़ता है।
  • यदि आप स्वतंत्र रूप से काम कर रहे हैं तो कॉपीराइट के मुद्दे विशेष रूप से उठते हैं।

आवश्यक योग्यता

ग्राफिक डिजाइन के क्षेत्र में आज तमाम तरह के कोर्स मौजूद हैं। फाउंडेशन कोर्स से लेकर चार साल तक के डिग्री कोर्स उपलब्ध हैं। किसी भी विषय से 12वीं के बाद आप ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं। इसके अलावा कई डिप्लोमा, सर्टिफिकेट, और शॉर्ट टर्म कोर्स करके भी आप पढ़ाई कर सकते हैं। ग्राफ़िक डिजाइनिंग में कुछ महीनों के फाउंडेशन कोर्स के अलावा 4 साल का ग्रेजुएशन कोर्स उपलब्ध है। किसी और विषय से ग्रेजुएशन करने के बाद भी ग्राफ़िक डिजाइनिंग के कुछ कोर्स किये जा सकते हैं।

ग्राफिक डिजाइनर की करियर संभावनाएं

अगर ग्राफिक डिजाइनिंग के क्षेत्र में करियर की बात की जाए, तो ग्लोबलाइजेशन के मौजूदा दौर में इस फील्ड  में रोजगार की बेहतर संभावनाएं हैं। सभी छोटे-बड़े संस्थान अपने लिए विजुअल ब्रैंड तैयार करवाते हैं। ग्राफिक डिजाइनर्स को वेबसाइट, एडवरटाइजिंग एजेंसी , किताबें, पत्रिकाएं, पोस्टर्स, कम्प्यूटर गेम्स, प्रोडक्ट पैकिजिंग, कॉर्पोरेट कम्यूनिकेशन, कॉर्पोरेट आइडेंडिटी जैसी जगहों पर अच्छे पैकिज में काम मिल जाता है। एक ग्राफिक डिजाइनर के रुप में आप विभिन्न रुपों में कार्य कर सकते हैं। मार्केटिंग इंडस्ट्री में, वो संस्थान जो विजुअल ब्रांड तैयार करवाते हैं।  इसके साथ ही आप वेबसाइट डिज़ाइनिंग, कॉर्पोरेट आइडेंडिटी, एडवरटाइजिंग एजेंसी, बुक्स एंड पब्लिकेशन हाउस, प्रोडक्ट पैकिजिंग, कम्प्यूटर गेम्स, मीडिया हाउस , शिक्षण संसथान आदि। जगहों पर करियर की संभावनाएं तलाश सकते हैं।


Connect me with the Top Colleges