Get All India Board Examination Results 2020

कंप्यूटर प्रोग्रामर

यदि आपको कंप्यूटर से प्यार है, कंप्यूटर कैसे काम करता है इस बात को जानने के लिए आप उत्सुक है, यदि आप कंप्यूटर से जुड़े प्रोग्रामों को बनाना चाहते हैं तो आप कंप्यूटर प्रोग्रामर के रुप में करियर बना सकते हैं। कंप्यूटर प्रोग्रामर कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के लिए कोड राइटर होते हैं। वे कोड प्राप्त करते हैं जो एक कंप्यूटर का अनुसरण कर सकता है। प्रोग्राम को डिबग करना प्रोग्राम के आउटपुट में वांछित परिणाम देने के लिए प्रोग्रामिंग परिवेश में सबसे आवश्यक कार्य में से एक है, वह प्रोग्राम की गलतियां खोजते हैं और उन्हें ठीक करने का कार्य करते हैं। 

कंप्यूटर प्रोग्रामर शब्द का प्रयोग एक ऐसे व्यक्ति के लिए किया जाता है, जो कंप्यूटर के क्षेत्र मैं सॉफ्टवेयर निर्माण संबंधित कार्य करते हैं, एक या एक से अधिक प्रोग्रामिंग भाषाओ को मिला कर प्रोग्राम बनाया जाता है, जो कंप्यूटर,मोबाइल या किसी भी हार्डवेयर को संचालित करता है, इन्हें बनानें के लिए कुछ स्टैण्डर्ड प्रोग्रामिंग भाषाओ का प्रयोग किया जाता है,
एक कंप्यूटर प्रोग्रामर सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों और ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए कोड बनाता है, एक सॉफ़्टवेयर डेवलपर एक कंप्यूटर प्रोग्राम को डिजाइन करनें के बाद, प्रोग्रामर द्वारा लिखा जाता है, जो उस डिज़ाइन को एक ऐसे निर्देशों में परिवर्तित करता है,जिसका अनुसरण कंप्यूटर कर सकता है |

कंप्यूटर प्रोग्रामर के कार्य

कंप्यूटर प्रोग्रामर प्रोग्राम डेवलपर्स, इंजीनियरों और वैज्ञानिकों के साथ काम करते हैं। वे डेवलपर या डिजाइनर के रूप में काम करने की क्षमता रखते हैं। कंप्यूटर प्रोग्राम लिखना एक घंटे का कार्य जितना आसान है या उतना ही कठिन है जितना कि इसमें वर्षों लग सकते हैं। छोटे कार्यक्रमों को भी व्यक्तिगत कार्यक्रमों द्वारा लिखा जा सकता है, जबकि बड़े को एंटीवायरस प्रोग्राम लिखने में कई साल लग सकते हैं। कंप्यूटर प्रोग्रामर SaaS, Software-as-a-Service का उपयोग करता है जो एक क्रॉस प्लेटफॉर्म है और लोकप्रिय OS जैसे विंडोज, लिनक्स और मैक आदि के लिए अच्छा काम करता है। हालांकि, एक कंप्यूटर प्रोग्रामर जो SaaS का उपयोग नहीं करता है, लेकिन अपने दम पर लिखता है उनके लिए आईओएस या लिनक्स की तरह अलग-अलग सिस्टम पर काम करने के लिए रीराइटिंग प्रोग्राम की आवश्यकता होती है।


एक कंप्यूटर प्रोग्रामर की भूमिका

काम में एक कंप्यूटर प्रोग्रामर निम्नलिखित गतिविधियाँ करता है-

  • विभिन्न कंप्यूटर भाषाओं जैसे सी ++, जावा, पायथन आदि में कंप्यूटर प्रोग्राम लिखना।
  • मौजूदा कार्यक्रमों पर संशोधन करना।
  • परीक्षक डीबगिंग और प्रोग्रामिंग त्रुटियों को ठीक करने के रूप में कार्य करता है।
  • कोड लिखने के लिए स्वचालित टूल बनाना।
  • प्रोग्राम को सरल और अद्वितीय बनाने के लिए कोड की स्वतंत्र लाइनों के कोड पुस्तकालयों का उपयोग करता है।

कंप्यूटर प्रोग्रामर के लिए आवश्यक कौशल

विश्लेषणात्मक कौशल- कंप्यूटर वैज्ञानिकों और इंजीनियरों द्वारा विकसित एल्गोरिदम और मॉडल अत्यधिक जटिल हैं।कंप्यूटर प्रोग्रामर को कंप्यूटर कोड लिखने के लिए प्रोजेक्ट में जटिलताएं समझने की आवश्यकता होती है।

एकाग्रता कुंजी है- कंप्यूटर प्रोग्रामर को लंबे समय तक कोड लिखने के लिए बैठने की आवश्यकता होती है, त्रुटि मुक्त कोड लिखने के लिए एकाग्रता महत्वपूर्ण है।

विवरण के लिए धैर्य- कंप्यूटर प्रोग्राम के परीक्षण या डिबगिंग के लिए उच्च स्तर के धैर्य की आवश्यकता होती है ताकि प्रोग्राम को त्रुटि मुक्त बनाया जा सके।

शैक्षणिक योग्यता

प्रोग्रामिंग में डिप्लोमा के लिए 12वीं पास होना अनिवार्य है, जबकि बैचलर डिग्री कोर्स, बीई/बीटेक के लिए साइंस में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, और गणित में 50 प्रतिशत अंक के साथ 12वीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है । यदि आप प्रोग्रामर बनना चाहते है, तो इसके लिए आपको कंप्यूटर से सम्बंधित भाषाओं का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है, जैसे C लैंग्वेज , C++ , Java , पाईथन , सी शार्प इत्यादि, क्योंकि बिना कंप्यूटर लैंग्वेज के आप किसी भी सॉफ्टवेर को नहीं बना सकते।

करियर संभावनाएं

कंप्यूटर प्रोग्रामर के रुप में आप कई राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय कंपनियों में नौकरी पा सकते हैं, आप वेब डेवलपर, सॉफ्टवेयर डेवलपर, मैनेजर, आईओएस डेवलपर इत्यादि के रुप में करियर बना सकते हैं।

कंप्यूटर विज्ञान के तहत करियर की सूची के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

Connect me with the Top Colleges