Get All India Board Examination Results 2020

खेल प्रबंधक

आज खेल का कोई भी प्रारुप हो कॉमनवेल्थ गेम्स हों या इंडियन प्रीमियर लीग, खेल अब सिर्फ खेल नहीं रह गए हैं, कमाई का एक बड़ा जरिया बन गए हैं। एक बहुत बड़ा बाजार इससे जुड़ गया है, जिसमें नौकरी की कई संभावनाएं है। खेल अब करियर के कई नए रंग दे रहा है। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आए दिन होने वाले तरह-तरह के मैच और प्रतियोगिताओं के कारण खेल, खिलाड़ी और उससे जुड़े लोगों के सामने पैसा, ग्लैमर और पद सब कुछ हाजिर है। क्रिकेट से जुड़ी इंडियन प्रीमियर लीग हो या कॉमनवेल्थ गेम्स, पूरा माहौल खेलमय हो गया है। इन खेलों के कारण आज तरह-तरह के करियर और काम निकल कर सामने आ रहे हैं। कोई इसे मैदान में उतर कर हासिल कर रहा है तो कोई मैदान के बाहर रह कर आयोजन आदि से जुड़ कर अपने करियर को नए आयाम दे रहा है। खेल प्रबंधन, खेलों का सामान तैयार करना, खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करना, उनके खानपान और स्वास्थ्य की देखभाल का जिम्मा उठाना, खेलों के लिए बाजार से पैसा और विज्ञापन जुटाना आदि भी खेल करियर के खास हिस्से हैं और कमाई के नए रास्ते दिखा रहे हैं।

खेल प्रबधंक के रुप में आप अपना करियर बना सकते हैं इसके लिए संचार कौशल प्रमुख हैं, साथ ही खेल, फिटनेस और दूसरों के फिटनेस लक्ष्यों में रुचि रखते हुए, खेल संचालन प्रबंधक बनने के लिए व्यवसाय संचालन की समझ भी आवश्यक है। इस नौकरी को सेवा उन्मुख माना जाता है और अक्सर धन्यवाद रहित माना जाता है, फिर भी, यह विभिन्न सुविधाओं में खेले जाने वाले खेल का एक अनिवार्य हिस्सा है।

खेल प्रबंधक के कार्य

खेलों के आयोजन ने स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के क्षेत्र में काम करने का बड़ा अवसर मुहैया कराया है। इसके लिए यह जरूरी है कि आप खेलों की जरूरत को समझों। उसे सफल बनाने के लिए विशेष तरह की दक्षता हासिल करें। खेल में विज्ञापन, बाजार, दर्शक, सुरक्षा और खान-पान आदि कई चीजें शामिल होती हैं। इन सबका प्रबंधन किस तरह किया जाए, इसे देखना प्रबंधकों के लिए जरूरी है। खेल प्रबंधन में करियर संवारने के लिए आज युवा प्रबंधकों की एक अलग पौध तैयार हो गई है। खेल सुविधा प्रबंधक खेल मैदान या स्टेडियम के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है, जिसमें प्रशासन सेवाओं, मुलायम सेवाओं और तकनीकी सेवाओं के मेजबान शामिल हैं। वे -फुटबॉल स्टेडियम, गोल्फ कोर्स, व्यायामशाला, स्विमिंग पूल, बेसबॉल / सॉफ्टबॉल मैदान, टेनिस कोर्ट, आइस रिंक, या ट्रैक एंड फील्ड सुविधाओं में उपयोग की जाने वाली खेल सुविधाओं (इमारतों, मैदानों और संबंधित उपकरणों) के संचालन और रखरखाव का प्रबंधन करते हैं। ये पेशेवर किसी भी सफल खेल आयोजन- गोल्फ, बास्केटबॉल या फ़ुटबॉल को शामिल करने के लिए दृश्य के पीछे काम करते हैं ताकि आप आराम से बैठकर खेल सुविधाओं का आनंद ले सकें। यदि स्पष्ट शब्दों में कहा जाए तो खेल प्रबधंक खेल की नींव होता है जो उसे भविष्य के लिए तैयार करता है। 


खेल प्रबंधक की भूमिका 

  • निर्देशांक, योजना और खेल सुविधाओं के संचालन और रखरखाव का पर्यवेक्षण करता है
  • खेल प्रबंधक यह सुनिश्चित करता है कि कैसे सुविधाओं को बनाए रखा जाए और एथलेटिक प्रतियोगिता से सुसज्जित किया जाए।
  • अभ्यास सत्र और प्रतियोगिता के लिए आवश्यक तैयारी (जैसे खेल के मैदानों को चिह्नित करना और उपकरण, ब्लीचर्स, या कुर्सियों को स्थापित करना और हटाने) का कार्य करता है।
  • खेल प्रबंधक खेल सुविधाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करता है
  • खेल प्रतियोगिता के संबंध में उपयोग की जाने वाली अन्य सुविधाओं के प्रभारी व्यक्तियों के साथ सहकारी संबंध बनाए रखता है
  • चिन्हित किए गए क्षेत्र में उपयोग किए जाने वाले उपकरणों और आपूर्ति की सूची के लिए जिम्मेदार होता है।
  • जिम्मेदारी के निर्धारित क्षेत्रों के बारे में वार्षिक बजट सिफारिशें तैयार करता है।

खेल प्रबंधक के लिए आवश्यक कौशल 

प्रबंधकीय क्षमताः एक खेल प्रबंधक को खेल से जुड़ी सभी चीजों का प्रबंधन करना पड़ता है। उसे यह पता होना चाहिए कि किस खेल एवं खिलाड़ी के लिए क्या आवश्यक है और वो इसका कैसे प्रबंधन करेगा।
निर्णय लेने की क्षमताः एक खेल प्रबंधक में निर्णँय लेने की क्षमता होनी चाहिए। उसे पता होना चाहिए कि कब, कहां, कौन सा निर्णय लेना है।

पर्यवेक्षण क्षमताः उसे खेल एवं खिलाड़ी के साथ अच्छे संबध स्थापित कर इनकी जरुरतो के बारे में पता होना चाहिए। किस समान का कैसे उपयोग करना है यह उसे आना चाहिए। 

संचार और पारस्परिक कौशलः एक खेल प्रबंधक को अच्छा संचार कौशल होना चाहिए। उसे अक्सर खिलाड़ी एवं अन्य लोगों के साथ संवाद करना पड़ता है। इसलिए उसमें यह गुण होना चाहिए।

शैक्षणिक योग्यता

खेल प्रबंधन में करियर के हिसाब से कई संस्थानों में कोर्स जाते हैं। इनमें बीपीएड, एमपीएड और स्पोर्ट्स इकोनॉमिक्स एंड मार्केटिंग शामिल हैं। आप बीपीएड, एमपीएड के अलावा बीएससी इन फिजिकल एजुकेशन, हेल्थ एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स का विशेष कोर्स कर सकते हैं। यह कोर्स कक्षा 12वीं के बाद उपलब्ध है।

करियर संभावनाएं

मीडिया विस्फोट के साथ भारत में विभिन्न खेल उपक्रमों के आगमन ने भारत के विभिन्न खेलों को लोकप्रिय बनाने में मदद की है। परिणामस्वरूप खेल प्रबंधन में प्रशिक्षित पेशेवरों की बढ़ती आवश्यकता है। इसके अलावा, खेल पर्यटन और साहसिक खेल एक साथ महत्व प्राप्त कर रहे हैं। जो यह सुनिश्चित करता है कि खेल उद्योग राष्ट्र में सबसे बड़े और सबसे विविध उद्योगों में रैंक जारी रखेगा, जिससे भविष्य के लिए करियर के अवसरों को बनाए रखा जा सके। इसने खेल प्रबंधन को एक आकर्षक करियर विकल्प बना दिया है।

Connect me with the Top Colleges