Get All India Board Examination Results 2020

पशु देखभाल और सेवा कार्यकर्ता

यदि आपको जानवरों से प्यार है, जानवरों की सेवा करना आपको यदि अच्छा लगता है तो जानवरों के लिए प्यार और जानवरों के साथ रहने की आपकी इच्छा आपको जानवरों की देखभाल और विभिन्न क्षेत्रों में संबंधित सेवाओं के रूप में एक पूरा करियर प्रदान कर सकती है। बहुत से लोग पालतू जानवरों की देखभाल करने वाले जानवर की देखभाल करने के रुप मे करियर बनना चाहते हैं। जानवरों की देखभाल करने का कार्य ना केवल आपको पशुओं से जोड़ेगा बल्कि आप सेवा करने का भाव भी महसूस करेगें। 

पशु देखभाल और सेवा कार्यकर्ता के कार्य

जानवरों की देखभाल या पालतू जानवरों की देखभाल पशु के लिए सहज प्यार प्रदर्शित करने का एक जरिया है। इस फील्ड् में पशुमित्र को पशु और पक्षियों की पूरी देखभाल करनी होती है। पशुमित्र ट्रीटमेंट करने के साथ उनकी सर्जरी करने, संक्रमण रोकने के लिए टीकाकरण और दवाइयां देने तथा पेट्स और फार्म में रहने वाले पशुओं की देखभाल की सलाह प्रदान करने जैसे कई काम करते हैं। इस क्षेत्र से जुड़ कर आप कई अलग-अलग सेटिंग्स और क्षेत्रों में काम कर सकते हैं- वाणिज्यिक स्पोर्ट्स ट्रेनर, बोर्डिंग केनेल, पालतू जानवर के स्टोर, पशु आश्रय, बचाव लीग, पशु अस्पताल, क्लीनिक ,अस्तबल, प्रयोगशालाओं, एक्वैरियम, प्राकृतिक जलीय आवास और प्राणी उद्यान आदि। । जानवरों की देखभाल और सेवा श्रमिकों के पास संतोषजनक करियर के साथ-साथ नौकरी के बेहतरीन अवसर होते हैं। 

नौकरी के रुप में आप इन क्षेत्रों में कार्य कर सकते है-

  • गैर-कृषि पशु देखभाल करने वाले
  • पशु प्रशिक्षक
  • घोड़े की देखरेख करना
  • केनेल परिचारक
  • पालतू पशु पालने वाले

पशु देखभाल और सेवा श्रमिकों की भूमिका

  • जानवरों को चारा और खाना खिलाना
  • जानवरों का आकलन करना।
  • जानवरों को सिखाने के लिए विभिन्न तरीकों की पहचान करना।
  • स्वच्छ उपकरण और जानवरों के रहने की जगह सुनिश्चित करना।
  • जानवरों की निगरानी करना और उनके आहार, शारीरिक स्थिति और व्यवहार जैसी जानकारी रिकॉर्ड करना।
  • बीमारी या चोट के संकेत के लिए जानवरों की जांच करना।
  • जानवरों को व्यायाम कराना।
  • जानवरों को नहलाना, नाखूनों को काटना, बालों को क्लिप करना और अन्य सौंदर्य आवश्यकताओं को पूरा करना।
  • जानवरों को पालन करने या विशिष्ट व्यवहार करने के लिए प्रशिक्षित करना।

पशु देखभाल और सेवा श्रमिकों की कौशल

सहानुभूति: सभी श्रमिकों को दयालु होना चाहिए और जानवरों के साथ अच्छा, विनम्र पूर्वक व्यवहार करना चाहिए।

ग्राहक-सेवा कौशल: पशु देखभाल और सेवा श्रमिकों को पालतू जानवरों के मालिकों की जरूरतों को समझना चाहिए ताकि वे ऐसी सेवाएं प्रदान कर सकें जो मालिकों को संतुष्ट कर दें।

जानकारी देने वाले : सेवादातओं को डिटेल ओरिएंटेड होना चाहिए क्योंकि वे अक्सर जानवरों को सख्त डाइट पर रखने, रिकॉर्ड्स को बनाए रखने और जानवरों के व्यवहार में बदलाव की निगरानी के लिए जिम्मेदार होते हैं।

धैर्य: कई जानवरों की देखभाल करने वाले सेवादाताओं और जानवरों के प्रशिक्षकों को जानवरों के साथ रहते या व्यवहार करते समय धैर्य रखने की आवश्यकता होती है जो आपके आदेशों का जवाब नहीं देते हैं उनके साथ भी अच्छा व्यवहार कर उन्हें प्रशिक्षित करना चाहिए।

समस्या-सुलझाने का कौशल: पशु प्रशिक्षकों के पास पशु आज्ञाकारिता और अन्य व्यवहारों को सिखाते समय समस्या-समाधान कौशल होना चाहिए।

सहनशक्ति: सहनशक्ति जानवरों की देखभाल और सेवाकर्मियों के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि उनके काम में अक्सर घुटने टेकना, रेंगना, झुकना, और कभी-कभी, भारी सामान उठाना, जैसे भोजन के बैग शामिल होते हैं।

भारत में पशु देखभाल और सेवा श्रमिकों की करियर संभावनाएं

भारत में पशु देखभाल और सेवा श्रमिकों को अधिक महत्व मिलना शुरू हो गया है क्योंकि अधिक से अधिक लोगों ने विभिन्न पालतू जानवरों को रखना शुरू कर दिया है। वे ट्रेनर, डॉग ट्रेनर, हॉर्स ट्रेनर, गाइड डॉग इंस्ट्रक्टर, गाइड डॉग ट्रेनर, एजिलिटी इंस्ट्रक्टर, कटिंग हॉर्स ट्रेनर, डॉग एंड कैट बिहेवियर स्पेशलिस्ट, गाइड डॉग मोबिलिटी इंस्ट्रक्टर, लाइसेंस्ड गाइड डॉग इंस्ट्रक्टर के रूप में काम करते हैं। आप पशु चिकित्सा सहायक शु चिकित्सा तकनीशियन, पशु प्रयोगशाला तकनीशियन, पशु चिकित्सा सहायक, पशु अस्पताल सहायक, पशु आश्रयों में पशु कल्याण अधिकारी चिड़ियाघर और वन्यजीव पार्क स्टाफ के सदस्यों के रुप में कार्य कर सकते हैं।

विक और बायोमेडिकल छात्र के लिए उपलब्ध करियर विकल्पों की अन्य सूची के लिए नीचे क्लिक करें:

Connect me with the Top Colleges