Get All India Board Examination Results 2020

पैरासिटॉलॉजिस्ट (परजीवी विशेषज्ञ)

पैरासिटॉलॉजी जिज्ञासु मन और अनुसंधान में रुचि रखने वाले व्यक्ति के लिए सबसे उपयुक्त करियर विकल्प है। इसमें करियर की अनेक संभावनाएं है। पैरासाइटोलॉजी के बुनियादी और अनुप्रयुक्त अनुसंधान क्षेत्रों में विविधता आणविक स्तर से वैश्विक स्तर तक जीव विज्ञान के अन्य क्षेत्र में नायाब है। स्पष्ट रूप से, परजीवियों द्वारा मनुष्यों को होने वाली समस्याओं के फलस्वरुप यह अनेक अवसर प्रदान करता है।  नए अनुसंधान उपकरणों के साथ सशस्त्र, परजीवीविज्ञानी के पास वैज्ञानिक प्रयासों में सबसे आगे काम करने के लिए अभूतपूर्व अवसर हैं, और रोमांचक नई खोजों को बनाने की काफी संभावनाएं हैं।

पैरासिटोलॉजी विभिन्न प्रकार के हेलमंथ का अध्ययन करती है। शरीर पर कीड़ों द्वारा होने वाले प्रभाव जो शरीर पर साफ रुप से दिखाई नहीं देते किन्तु त्वचा के नीचे छिपे होते हैं उनके इलाज से संबधित है। तथ्य यह है कि इस तरह के अप्रिय जीव रोगियं के अदंर सचमुच में घर बना लेते हैं। यह मुख्य रुप से दूषित जल और संक्रमण के द्वारा शरीर में पहुंच जाते हैं और त्वचा के अंदर अपनी जगह बना लेते हैं। कीड़े ज्यादातर लोगों में घृणा का कारण बनते हैं, इसलिए जब उन्हें किसी व्यक्ति की त्वचा के नीचे पाया गया, तो दुनिया भर के डॉक्टरों ने इस पर शोध किया और पपैरासिटोलॉजिस्ट के रुप में करियर को नया आयाम मिला।

पैरासिटोल़ॉजिस्ट की भूमिका

  • प्रयोगशाला के वातावरण में काम करना।
  • यह निर्धारित करने के लिए कि वे इंसानों और जानवरों पर हमला कैसे करते हैं, परजीवी पर शोध करते रहना।
  • जाँच करना कि वे एक शरीर से दूसरे शरीर में कैसे पहुंचते हैं। 
  • पैरासाइटोलॉजिस्ट भी परजीवियों का मुकाबला करने के लिए तरीके और एजेंट विकसित करते हैं।

पैरासिटोलॉजिस्ट के लिए शैक्षणिक योग्यता

पैरासिटोलॉजिस्ट में करियर बनाने के लिए सर्वप्रथम कक्षा 12वीं की परीक्षा विज्ञान विषय के साथ पास करना आवश्यक है। इसके बाद स्नातक के लिए व्यक्ति या तो बायोलॉजी या केमिस्ट्री में बी.एससी में अंडरग्रेजुएट कोर्स कर सकता है और फिर पैरासिटोलॉजी में मास्टर डिग्री कर सकता है। एक कोशिकीय जीव विज्ञान, आंत्रविज्ञान और अध्ययन के अन्य संबंधित स्वास्थ्य और जीव विज्ञान क्षेत्रों में विशेषज्ञ हो सकता है।

पैरासिटोलॉजिस्ट होने के आवश्यक कौशल

दृढ़ता: पैरासिटोलॉजिस्ट की नौकरी के लिए अनुसंधान के दौरान सभी बाधाओं का सामना करने के लिए दृढ़ता की आवश्यकता होती है।

विवरण पर ध्यान दें: कार्य को पूरा करने और कार्य कार्यों को पूरा करते समय  सावधानी बरतने की आवश्यकता है।
विश्लेषणात्मक सोच: काम से संबंधित मुद्दों और समस्याओं को दूर करने के लिए जानकारी का विश्लेषण करने और तर्क का उपयोग करने की आवश्यकता है।

वैज्ञानिक कौशल: समस्याओं को हल करने के लिए वैज्ञानिक नियमों और विधियों का उपयोग करना आवश्यक होता है।
बोलना - प्रभावी ढंग से जानकारी देने के लिए दूसरों से बात करना। जरुरी है जो एक पैरासिटोलॉजिस्ट को आना चाहिए।

जैविक और बायोमेडिकल छात्र के लिए उपलब्ध करियर विकल्पों की अन्य सूची के लिए नीचे क्लिक करें:

Connect me with the Top Colleges