Get All India Board Examination Results 2020

वनस्पति वैज्ञानिक

क्या आपको पेड़-पौधों के बारे में जानना अच्छा लगता है, क्या आप यह जानने के लिए उत्सकु है कि पेड़ कैसे ऑक्सिजन जेते हैं, क्या आपको अभी भी स्कूल में शिक्षक द्वारा दिए गए पत्तों का संग्रह बनाने के के लिए दिया गया अपना पहला काम याद है यदि ऐसा है तो आप वनस्पति विज्ञान से जुड़ कर एक शानदार करियर बना सकते हैं। पेड़-पौधों के बारे में जानने का जुनून आपको वनस्पति विज्ञान के रूप में उच्च उड़ान वाला करियर प्रदान कर सकते है।  इसमें - वनस्पति विज्ञान और वनस्पति जीवविज्ञान प्रमुख क्षेत्र  है जहां आप करियर की संभावनाएं तलाश सकते हैं।

पौधे और फूल न केवल हमारे उद्यानों में सुंदरता फैलाते हैं और हमारे जीवन को ताजगी देते हैं बल्कि हमारी बुनियादी आवश्यकताओं तथा औषधियों के लिए महत्त्वपूर्ण वैज्ञानिक सामग्रियों के रूप में कार्य करते हैं। पौधे ऐसे रासायनिक कारखाने होते हैं जो मनुष्य के लिए उपयोगी सभी प्रकार के उत्पाद देते हैं। भोजन के अतिरिक्त पौधे कागज, भवन सामग्री, द्रव्यों, गोंद, कपड़ों, औषधियों और कई अन्य उत्पादों के लिए कच्चा माल देते हैं। उदाहरण के लिए एलोवेरा पौधा क्रीम तथा चिकित्सा द्रव्यों में प्रयोग में लाया जाता है। इन सब बातों का अध्ययन वनस्पति विज्ञान में किया जाता है। वनस्पति विज्ञान में वनस्पति जगत में पाए जाने वाले सब पेड़-पौधों का अध्ययन होता है। जीव विज्ञान का यह एक प्रमुख अंग है।

सामान्य तौर पर वनस्पति विज्ञान पौधों का वैज्ञानिक अध्ययन होता है। इसमें वर्गीकरण, वितरण, संरचना, आनुवांशिकी, शरीर विज्ञान या पारिस्थितिकी पर एक नजर शामिल हो सकता है। कुछ पाठ्यक्रम एक विशेष क्षेत्र, भूवैज्ञानिक अवधि या निवास स्थान में पौधे के जीवन पर भी ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। वनस्पति विज्ञान स्नातक ऐसे वनस्पति वनस्पतियों जैसे कि प्लांट टैक्सोनोमिस्ट्स, एथानोबोटानिस्ट, पैथोलॉजिस्ट, पेलियोबोटानिस्ट और पैलेनिसोलॉजिस्ट, प्लांट साइटोलॉजिस्ट्स, प्लांट आनुवंशिकीविद्, प्लांट इज़ोलोलॉजिस्ट, प्लांट साइंटेस्ट्स और वीड वैज्ञानिकों आदि के लिए जा सकते हैं। इस तेजी से बढ़ती तकनीकी दुनिया में वनस्पति वैज्ञानिक के लिए अवसर की कमी नहीं है आप- जैव प्रौद्योगिकी से लेकर पर्यावरणीय कारणों, अन्य अनुसंधान फर्मों तक में काम कर सकते है।

वनस्पति विज्ञानियों की भूमिका

  • पौधों की प्रजातियों के कंप्यूटर रिकॉर्ड को मॉनिटर करना, वर्गीकृत करना और डेटा को प्रोसेस रखना।
  • इलेक्ट्रान सूक्ष्मदर्शी, रेडियोआइसोटोप, डिजिटल इमेजिंग विश्लेषण, पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन, सेल और टिशू कल्चर, उपग्रह इमेजिंग और टेलीमेट्री जैसी परिष्कृत तकनीकों और उपकरणों का उपयोग करना।
  • निर्माण और खेती, और प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन जैसे पर्यावरणीय कारकों जैसे मानव गतिविधि के पौधों पर प्रभाव का अध्ययन करना।
  • पर्यावरण संरक्षण नीतियों पर सरकार को सलाह देना।
  • पादप आनुवंशिकी और विकास का अध्ययन।
  • अनुदान और धन के लिए आवेदन करना।
  • जूनियर कर्मचारियों, शोधकर्ताओं और स्वयंसेवकों को प्रशिक्षण और पर्यवेक्षण करना।
  • पुस्तकों और पत्रिकाओं में और अकादमिक सम्मेलनों में शोध के परिणाम प्रस्तुत करना।

वनस्पति वैज्ञानिक के कौशल

  • संचार कौशल (सुनना, मौखिक, लिखित)
  • कंप्यूटर और तकनीकी साक्षरता
  • लचीलापन और मल्टीटास्क की क्षमता
  • पहल और स्व-प्रेरणा
  • पारस्परिक क्षमताओं
  • योजना और संगठनात्मक कौशल
  • समस्या-समाधान और रचनात्मकता
  • टीम कार्यकर्ता

शैक्षणिक योग्यता

वनस्पति वैज्ञानिक बनने के लिए सबसे पहले साइंस संकाय में बायोलॉजी, फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स विषयों के साथ दस जमा दो उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। स्नातक कोर्स के लिए इस विषय की स्ट्रीम के छात्र दाखिला ले सकते हैं। प्रवेश स्तर के लिए स्नातक की डिग्री की आवश्यकता होती है जिसके बाद मास्टर की डिग्री और फिर उन्नत अनुसंधान पदों के लिए आम तौर पर आवश्यक डॉक्टरेट की डिग्री के लिए आप जा सकते हैं। विशेषज्ञता के कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रों में प्लांट टैक्सोनॉमी, प्लांट पैथोलॉजी, प्लांट मॉर्फोलॉजी, प्लांट फिजियोलॉजी, प्लांट जेनेटिक्स और प्लांट इकोलॉजी शामिल हैं। आफ इनमें से किसी में भी विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं।

करियर संभावनाएं

बॉटनी भारत में कई कैरियर विकल्प प्रदान करता है और भारत में विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्रों जैसे भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईओआरआई), राष्ट्रीय समुद्र विज्ञान संस्थान (एनआईओ), वानस्पतिक सर्वेक्षण (बीएसई), और भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद (आईसीएफआर) की पेशकश करता है। एक बोटनिस्ट के लिए हर साल कई नौकरियां निकलती है। एक वनस्पतिशास्त्री निजी और सरकारी दोनों क्षेत्रों में तकनीकी सहायक, क्षेत्र सहायक या वैज्ञानिक सहायक के रूप में काम कर सकता है।

आप वनस्पति वैज्ञानिक के रुप में जुड़ कर यदि संस्थानों में एक अकादमिक करियर को लेक्चरर्स और प्रोफेसरों या वैज्ञानिक वैज्ञानिक कैरियर जैसे कि प्लांट साइंटेस्टर्स, वेड साइंटेस्टर्स आदि के रूप में अपना सकते है।  बॉटनी में एम.एससी करने के बाद शोधकर्ताओं और प्रशासकों के रूप में काम कर सकते हैं। इसके अलावा भारत के वानस्पतिक सर्वेक्षण और अन्य सरकारी विभागों में भी विकल्प है, लेकिन केवल यूपीएससी परीक्षा के माध्यम से। विश्वविद्यालयों, कालेजों से वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में स्नातक योग्यता प्राप्त करने वाले छात्रों के लिए कई प्रकार के रोजगार उपलब्ध हैं। जैसे कि ब्रीडर के रूप में, पार्क रेंजर, पादप रोग विज्ञानी, पारिस्थितिकीविद, प्रोफेसर, अध्यापक, कृषि परामर्शदाता, अनुसंधानकर्ता, उद्यान विज्ञानी, नर्सरी प्रबंधक आदि।

जैविक और बायोमेडिकल छात्र के लिए उपलब्ध करियर विकल्पों की अन्य सूची के लिए नीचे क्लिक करें:

Connect me with the Top Colleges