Get All India Board Examination Results 2020

डांसर और कोरियोग्राफर

क्या आप भी उन लोगों में से है जिनके पैर संगीत की धुन सुनते ही थिरकने लगते है, क्या तबले की ताल आपको झूमने पर मजबूर कर देती है। बिना थिरके आपको आनंद नहीं आताय़ यदि ऐसा है तो नृत्य का क्षेत्र आपके लिए एक शानदार करियर के दरवाजे खोल कर खड़ा है। जी हां एक समय तक नृत्य को केवल शौक और मनोंरजन का कार्य माना जाता था किन्तु आज नृत्य के क्षेत्र में  नर्तक और कोरियोग्री के आ जाने से इस क्षेत्र में नया आंदोलन आया है आज यह एक पेशेवर करियर विकल्प के रुप में उभर कर सामने आया है। नर्तक और कोरियोग्राफर नृत्य आंदोलनों, प्रत्यक्ष मंच प्रस्तुतियों को बनाते हैं और विचारों और अवधारणाओं को व्यक्त करने के लिए नृत्य करते हैं। नर्तक कई प्रकार के डांस फॉर्म को प्रदर्शित करते हैं जैसे बैले, हिप-हॉप, जैज़, टैप और कंटेंपररी वहीं भारतीय नृत्य की बात की जाए तो भरतनाट्यम, कुचीपुड़ी, कथक, भांगड़ा ना जाने कितने ही तरह के नृत्य आज किए जाते हैं। भारत में तो नृत्य का इतिहास बरसों पुराना है य़हां हर क्षेत्र, हर राज्य की एक अपनी नृत्य शैली है।

भारत में न सिर्फ नृत्य का हजारों साल पुराना इतिहास रहा है बल्कि देश में कई मशहूर और दिग्गज डांसर भी हुए है जिन्होंने विश्व पटल पर अपना नाम कमाया है। इनमें पंडित बिरजू महाराज, सोनल मानसिंग, मल्लिका साराभाई, रुक्मणी देवी अरुंदले, शोवना नारायण और यामिनि पूर्णातिलका कृष्णमूर्ति जैसे नाम है जिन्होंने भारतीय क्लासिकल नृत्य को दुनिया भर में पहचान दिलाई है। वहीं बॉलीवुड फिल्मों की बात की जाए तो माधुरी दीक्षित, गोविंदा, मिथुन के अलावा आज के समय में ऋतिक रोशन, शाहिद कपूर, टाइगर श्राफ आदि नृत्य को आगे ले जाने का कार्य कर रहे हैं। 
डांस में कोरियोग्राफर्स डायरेक्ट स्टेज और लाइव शो और डांस रूटीन बनाते हैं। नर्तकियों ने मंच के लिए या टेलीविजन शो या वीडियो और गति चित्रों के लिए प्रदर्शन के लिए कलाकारों को डांस सिखाते हैं। सरोज खान, फराह खान, रेमो डिसूजा आदि कई प्रसिद्ध कोरियोग्राफर है जो आज ग्लैमर और शौहरत की दुनिया में एक बड़ा नाम है। 

कोरियोग्राफर के कार्य

एक कोरियोग्राफर अपनी शुरुआत एक डांसर के रूप में करता है. वे विभिन्न प्रकार के डांस फॉर्म जैसे क्लासिकल,मॉडर्न,जैज, फॉक तथा एथिनिक आदि में से अपनी रूचि के अनुसार एक का चयन कर उसमें विशेषज्ञता हासिल करते हैं. एक कोरियोग्राफर के लिए भिन्न भिन्न डांस टेक्नीक्स का ज्ञान होना बहुत जरुरी है क्योंकि उनका मुख्य काम ही डांस को उसकी नई नई परिभाषाओं के रूप में व्याख्या करना है. यूँ तो यह प्रारंभिक अवस्था में एक शौक के रूप में उभरा था लेकिन आज के युवा पारंपरिक करियर विकल्पों से हटकर इस दिशा में भी अपना करियर बनांते हुए डांस को लोकप्रिय प्रोफेशन बना रहे हैं. प्रोफेशनल डांसर की बहुत डिमांड होने के कारण इस फील्ड में करियर के बहुत सुनहरे अवसर उपलब्ध है. मनोरंजन, नाम और यश के साथ साथ अच्छा खासा पैसा भी कमाया जा सकता है.

कोरियोग्राफर की भूमिका

  • एक कोरियोग्राफर शो में या एक डांस कंपनी के साथ भूमिका के लिए ऑडिशन आयोजित करता है।
  • नृत्य शो के लिए संगीत, सेट और स्थान का चयन करता है।
  • छात्रों की नृत्य क्षमताओं का अनुमान लगाता है और ताकत और कमजोरियों का निर्धारण करता है।
  • कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर, लाइटिंग क्रू, म्यूज़िक डायरेक्टर और शो के अन्य कलात्मक विशेषज्ञों के साथ समन्वय स्थापित करता है।
  • कोरियोग्राफर शो के लिए डांस के मूव्य निर्धारित करता है।
  • अनुसंधान और नए नृत्य कलाओं का अध्ययन करता है।
  • विचारों और मनोदशाओं को नृत्य कलाओं में कैसे अनुवाद किया जाए, यह निर्धारित करने के लिए कहानी की रेखाओं और संगीत के अंकों का अध्ययन करता है।
  • बजट और तंग समय सीमा पर काम करता है।

एक डांसर की भूमिका

  • डांसर यानि नृतक डांस कंपनी के साथ शो के लिए या नौकरी या ऑडिशन देता है।
  • डांसर प्रस्तुतियों में विभिन्न प्रकार के नृत्यों का प्रदर्शन करता है, जिससे उनके शरीर के साथ कहानी, लय और ध्वनि व्यक्त होती है।
  • डांसर प्रदर्शन के वास्तविक दिन से पहले कई घंटों तक रिहर्सल करता है।
  • नृत्य कलाओं को सीखने और कार्यान्वित करने के लिए कोरियोग्राफरों के साथ काम करता है।
  • सहयोगियों या नृत्य कलाकारों के साथ नृत्य निर्देशांक करता है।
  • तकनीकी दक्षता, शारीरिक क्षमता और शारीरिक फिटनेस के उच्च स्तर को बनाए रखने के लिए ट्रेनिंग और नृत्य कक्षाएं आयोजित करता है।

एक डांसर एवं कोरियोग्राफर के लिए आवश्यक कौशल

शरीर के साथ समन्वय: एक डांसर और कोरियोग्राफर का अपने बॉडी मूवमेंट पर अच्छा नियंत्रण होना चाहिए। एक गति में हाथ, पैरों और कमर की मुद्राओं एवं हाव-भावो को प्रदर्शित करने में सक्षम होना चाहिए।

लचीलापन: एक डांसर का शरीर बेहद लचीला होता है। एक डांसर या कोरियोग्राफर अनपे शरीर को आसानी से तोड़- मोड़ करने में सक्षम होना चाहिए।

नृत्य तकनीकी का ज्ञान: एक डांसर या कोरियोग्राफर को नृत्य तकनीकीं, औजारों और सिद्धांतों का पर्याप्त ज्ञान होना चाहिए।

सहनशक्ति और ऊर्जा: नृत्य में सहनशक्ति और ऊर्जा की बहुत आवश्यकता होती है। एक व्यक्ति को शारीरिक रूप से फिट और सक्रिय होना चाहिए और बिना थके लंबे समय तक काम करने में सक्षम होना चाहिए।

सांस्कृतिक संवेदनशीलता: एक नर्तक को सांस्कृतिक संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए अपनी नृत्यकला को संशोधित करने में सक्षम होना चाहिए।

मौलिकता: एक कोरियोग्राफर को नए विचारों और अवधारणाओं के साथ आना चाहिए और अच्छे कार्यक्रम बनाने चाहिए।

एक डांसर और कोरियोग्राफर के पक्ष और विपक्ष की बातें

पक्ष 
  • नए नृत्य रूपों को सीखने का अवसर मिलना।
  • व्यायाम करना जिससे हमेशा स्वस्थ रहते हैं। 
  • कोरियोग्राफर्स को अपने नृत्य रूपों के माध्यम से कहानी सुनाने और अपनी रचनात्मकता को लागू करने का अवसर मिलता है।
विपक्ष
विशेष रूप से लंबे समय तक काम करने के घंटे होना।
कठोर अभ्यास के कारण स्वास्थ्य को नुकसान होता है।
निरंतर काम प्रवाह की कोई गारंटी नहीं।

शैक्षणिक योग्यता

एक कोरियोग्राफर बनने के लिए पहले आपको डांस की बारीकियों को समझना होगा। इसके लिए आप किसी सरकारी या निजी संस्थान से डांस से संबंधित लॉन्ग या शॉर्ट टर्म कोर्स कर सकते हैं। इस क्षेत्र में आपको कोई खास एजुकेशन की आवश्यकता नहीं होती। आप बारहवीं या दसवीं के बाद भी कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी आपकी लगन, डांस सीखने की चाह एवं मेहनत है। 

करियर संभावनाएं

एक कोरियोग्राफर बहुत सी जगहों पर अपने लिए संभावनाओं की तलाश कर सकता है। आजकल न सिर्फ फिल्मों में गाने को कोरियोग्राफ करने के लिए कोरियोग्राफर की आवश्यकता होती है, बल्कि टीवी डांस शो, स्टेज शो, वेडिंग प्लानिंग कंपनियां, मॉडलिंग एजेंसियां, इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों आदि को भी अपने काम के दौरान बेहतरीन कोरियोग्राफर की जरूरत पड़ती है। इसके अतिरिक्त बहुत से डांस स्कूल व डांस ग्रुप भी अपने यहां कोरियोग्राफर को हायर करते हैं। अगर आप किसी संस्थान के साथ जुड़कर काम नहीं करना चाहते तो आप खुद का डांस स्कूल भी खोल सकते हैं या फ्रीलांसर के तौर पर भी अपनी सेवाएं दे सकते हैं। इसके अलावा आप अलग-अलग उम्र के लोगों को डांस सिखा सकते हैं, उन्हें प्राइवेट कोचिंग दे सकते हैं, स्टेज परफॉर्मेंस दे सकते हैं,लाइव शो और फिल्म में डांस कर सकते हैं, संगीत और वेडिंग में डांस, सेलीब्रिटी डांस टेनर बन सकते हैं. बच्चों को डांस सिखा सकते हैं।

Connect me with the Top Colleges