Get All India Board Examination Results 2021

सेट और एग्जीबिशन डिज़ाइनर

आपने बॉलीवुड की फिल्म देवदास, जोधा अकबर, बाजीराव मस्तानी, पद्मावत, लगान आदि तो देखी होगीं. इन फिल्मों में सबसे ज्यादा आकर्षणँ का केंद्र इनके सेट्स होते हैं जो इन्हें और भव्य बनाते हैं। बॉलीवुड फिल्मों के अलावा कई ऐतिहासिक टीवी सीरियल्स के सेट भी उस जगह को बताने, इस कहानी, उस समय को बताने के लिए लगाए जाते हैं। इन सेट्स को तैयार करने वालों को सेट डिजाइनर कहा जाता है। आज के समय में सेट डिजाइनिंग एवं एग्जीबिशन  डिदाइनिंग का क्षेत्र करियर के कई विकल्प लेकर आया है। सेट डिजाइनर विशेष रुप से प्रदर्शन, फिल्मों, थिएटर और टीवी के लिए सेट डिजाइन करता है। एक सेट डिजाइनर प्रत्येक सेट के लिए आवश्यक सेट के प्रकार को निर्धारित करने के लिए स्क्रिप्ट पढ़ता है। एक एग्जीबिशन डिजाइनर कलाकृतियों, कलाओं और उत्पादों को प्रदर्शित करने के लिए स्थान बनाता है। सेट डिजाइनर सही वास्तुशिल्प शैलियों पर निर्णय लेने के लिए अनुसंधान भी करते हैं। विभिन्न एग्जीबिशन के लिए स्टॉल्स, बूथ, पैवेलियन, थीम ईवेंट के सेट्स आदि को डिजाइन करने की कला एग्जीबिशन डिजाइनिंग है। किसी खास विषय को विशिष्ट तकनीक व रचनाशीलता के माध्यम से इस तरह जीवंत बना देना कि उस स्टॉल, बूथ की तरफ लोग बरबस खिंचे चले आएं, इसी का नाम है एग्जीबिशन डिजाइनिंग।

सेट और एग्जीबिशन डिज़ाइनर के कार्य

एक एग्जीबिशन की पूरी जिम्मेदारी एग्जीबिशन डिजाइनर के कंधों पर होती है। यातायात, सुरक्षा और दूसरी सभी सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए जगह का चुनाव करना, उत्पाद चुनना, कौनसा स्टॉल कहां लगेगा यह तय करना, ग्राहकों को कैसे आकर्षित करना है, इन सभी चीजों की व्यवस्था एग्जीबिशन डिजाइनर ही करता है, लेकिन एक डिजाइनर के इन सभी दायित्वों से ऊपर होता है एग्जीबिशन की साज-सज्जा यानी डेकोरेशन करना, ताकि लोगों को उसकी तरफ आकर्षित किया जा सके। इसके लिए एक एग्जीबिशन डिजाइनर अपने क्लाइंट के आइडिया व जरूरतों और अपनी कल्पना शक्ति की बदौलत एग्जीबिशन और डिस्प्ले स्टैंड के लिए स्टॉल्स, बूथ आदि को डिजाइन करता है। एग्जीबिशन डिज़ाइनर प्रदर्शन करते समय प्रकाश, स्थान और लक्षित दर्शकों को ध्यान में रखते हैं। वे एक अवधारणा विकसित करने और प्रदर्शनी के उद्घाटन तक डिजाइन परियोजना के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार हैं।

वहीं सेट डिजाइनर फिल्मो के लिए सेट डिज़ाइन करते हैं। फ़िल्म टीवी शो में जो भी साज सज्जा होती है ये सारी जिम्मेदारी सेट डिजाइनर की ही होती है। सेट डिजाइनर फ़िल्म की मांग के अनुसार सेट डिज़ाइन करते है। फ़िल्म डायरेक्टर को जिस तरह के फ़िल्म में वातावरण और माहौल की जरूरत होती है । सेट डिजाइनर उनकी डिमांड के मुताबिक ही फ़िल्म के सेट को डिजाइन देते हैं। एक सेट डिजाइनर को सेट को डिज़ाइन करते समय ऐतिहासिक अवधि, दिन, स्थान, मौसम और कहानी के अन्य पहलुओं पर विचार करना चाहिए। सेट डिजाइनर दर्शकों को भौतिक स्थान का एक बेहतर अर्थ देते हैं जिसमें कार्रवाई होती है।

सेट और एग्जीबिशन डिज़ाइनरो के प्रकार

  • लाइव नाटकीय प्रदर्शन सेट डिजाइनर
  • टेलीविजन या फिल्म सेट डिजाइनर
  • टेलीविज़न स्टूडियो सेट डिज़ाइनर
  • व्यापार शो या सम्मेलन प्रदर्शनी डिजाइनर
  • प्रदर्शन करने वाले डिजाइनर

सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर की भूमिका

  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर सेट डिजाइनों को निर्धारित करने के लिए स्क्रिप्ट का मूल्यांकन करता है।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर निदेशकों से अनुमोदन के लिए सेट डिजाइनिंग के लिए योजना तय करना और उन्हें जमा करने का कार्य करता है।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर स्थान और बजट पर निर्णय लेता है।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर विशिष्ट डिजाइनिंग सामग्री पर निर्देशकों, क्यूरेटर, क्लाइंट और अन्य डिजाइनरों के साथ सहयोग करता है।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर अपने हिसाब से टारगेट ऑडियंस और डिजाइन सेट की पहचान करने के लिए क्यूरेटर, प्रोड्यूसर और क्लाइंट के साथ बातचीत करता है।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर सेट डिजाइनर तैयार सेटों पर ग्राहकों को एक विचार देने के लिए इलेक्ट्रॉनिक डिजाइन, चित्र और आरेख बनाने के लिए कंप्यूटर एडेड डिज़ाइन (सीएडी) कार्यक्रमों या हाथ से तैयार किए गए रेखाचित्रों का उपयोग करता है।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर निर्माण, निर्माण, या सजावट गतिविधियों का प्रबंधन और समन्वय करता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सेट या प्रदर्शन डिजाइन, बजट और शेड्यूल आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।
  • सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर सेट बनाने के लिए कल्पना का उपयोग करता है जो कहानी को बयान करने में मदद करते हैं।

एक सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर के लिए आवश्यक कौशल

डिज़ाइन का ज्ञान: सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर के लिए डिज़ाइन टूल, तकनीक और सिद्धांतों का ज्ञान आवश्यक होता है। उसे अपनी रचनात्मकता का उपयोग करना आना चाहिए।

ललित कला: सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर को संगीत, दृश्य कला, नृत्य, नाटक और मूर्तिकला जैसी अन्य कलाओं का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।

कंप्यूटर कौशल: सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर को कंप्यूटर प्रोग्राम की पर्याप्त जानकारी होनी चाहिए, जिसमें कंप्यूटर एडेड डिज़ाइन (सीएडी) जैसे सॉफ्टवेयर प्रोग्राम शामिल हैं। आप लंबे समय तक इस फील्ड में बने रहना चाहते हैं, तो कंप्यूटर के साथ-साथ वेक्टरव‌र्क्स, रेंडरव‌र्क्स, फोटोशॉप, इलस्ट्रेटर मैक्स आदि सॉफ्टवेयर्स की नॉलेज होना जरूरी है।

रचनात्मकता: सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर को अपनी कल्पना और डिजाइन सेट का उपयोग करने में सक्षम होना चाहिए जो एक अच्छी तरह से परिभाषित कहानी का वर्णन करेंगे।

समस्या को सुलझाने का कौशल: एक सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर को न केवल डिजाइन और सेट बनाने की आवश्यकता होती है, बल्कि त्वरित-समय के दौरान समाधान की भी आवश्यकता होती है। 

समझ: एक सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर को लिपियों को समझने, क्लाइंट की जरूरतों को समझने और निदेशकों और निर्माताओं के साथ परामर्श के बाद लक्ष्य दर्शकों को निर्धारित करने में सक्षम होना चाहिए।

सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर के पक्ष और विपक्ष की बातें

पक्ष
  • विशेष रूप से निजी संग्रहालयों और विशेष प्रदर्शन के लिए काम करते समय सुंदर वेतन पाना।
  • रंगमंच, टेलीविजन या गति चित्रों में कला में योगदान करने का अवसर।
  • सुविधाजनक काम के घंटे।
  • कई उद्योगों में काम करने का अवसर।

विपक्ष
  • सेट डिजाइनिंग में विशिष्ट शिक्षा आवश्यक है।
  • निरंतर काम प्रवाह की कोई गारंटी नहीं।
  •  व्यस्त कार्य अनुसूची।
  • समय और बजट की कमी के तहत काम करने की आवश्यकता हो सकती है।

शैक्षणिक यौग्यता

सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर के रुप में करियर बनाने के लिए सेट डिजाइनिंग या फाइन आर्ट्स से रीलेटेड कोर्स करने के लिए आपका 12वीं पास होना आवश्यक है। इसके बाद बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स  का कोर्स भी आप कर सकते हैं। सरकारी संस्थाओं में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा देनी पड़ती है। वंही प्राइवेट संस्थानो में एडमिशन डायरेक्ट भी मिल जाता है।

करियर संभावनाएं

सेट और एग्जीबिशन डिजाइनर का कोर्स करने के बाद आपको बहुत से फ़िल्म, टीवी सीरियल, टीवी शो, थिएटर, मीडिया हाउस, एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री, बड़े बड़े इवेंट, मॉडलिंग में सेट डिजाइनिंग इनके आलाव भी आपके पास करियर के बहुत से विकल्प होते हैं। आप इन जगहों पर आसानी से नौकरी पा सकते है। वहीं एक एग्जीबिशन डिजाइनर को किसी स्थापित एग्जीबिशन डिजाइनर या सेट डिजाइनर के सहायक के तौर पर अपने करियर की शुरुआत करनी होती है। एक अच्छा डिजाइनर सरकारी और निजी दोनों तरह के संगठनों में नौकरी प्राप्त कर सकता है। इसके तहत, वह संग्रहालय, सांस्कृतिक प्रतिष्ठान, हेरिटेज ग्रुप, गैर सरकारी संगठन, व्यावसायिक समूह, ईवेंट मैनेजमेंट कंपनी और इंटीरियर डिजाइन कंपनी से जुड़ सकता है।

Connect me with the Top Colleges