Get All India Board Examination Results 2020

भारतीय वन सेवा (आईएफएस)

भारतीय वन सेवा (आईएफएस) भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) या भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) जैसी प्रतिष्ठित अखिल भारतीय सेवाओं में से एक है। आईएफएस में आने के लिए, एक उम्मीदवार को उसी प्रारंभिक परीक्षा में बैठना होता है, जब सभी सिविल सेवा के इच्छुक उम्मीदवार आईएफएस अधिकारियों का चयन करते हैं। आए दिन घटने वाली प्राकृतिक आपदाएं पर्यावरण के नुकसान का ही परिणाम हैं। दिन-रात कटते पेड़, दूषित वातावरण इन सबको को रोकने का काम आईएफएस अधिकारी ही करता है। वह इस दिशा में बेहतरी के लिए देश-विदेश में पर्यावरण सुधार, वन विस्तार और वन सेवा से संबंधित कई तरह की योजनाएं बनाता है। सरल शब्दों में कहें तो फॉरेस्ट ऑफिसर या वन अधिकारी एक ऐसा पेशा है जो जंगलों की अवैध कटाई, पेड़ पौधों और अपने अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत वनों वनों की रक्षा करने का काम करता है। 

आईएफएस अधिकारियों की भूमिकाएं और जिम्मेदारियां

एक आईएफएस अधिकारी को वनों के संरक्षण, संरक्षण और संरक्षण और विकास का काम सौंपा जाता है। आईएफएस अधिकारी देहरादून में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी में वानिकी और संबद्ध विषयों में प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं और परिवीक्षा अवधि और चार साल की सेवा के सफल समापन के बाद, उन्हें वरिष्ठ समय वेतनमान के रूप में नियुक्त किया जाता है और उन्हें प्रभागीय वन अधिकारी या उप के रूप में नियुक्त किया जाता है। वन प्रभागों के प्रभारी वन संरक्षक होते हैं।

भारतीय वन सेवा के अधिकारी भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों में उच्च शिक्षा का विकल्प भी चुन सकते हैं। इन अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति केंद्र सरकार सहित अन्य मंत्रालयों, विभागों, संस्थानों, अकादमियों आदि में की जा सकती है। आईएफएस अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति विदेशी सरकारों, संयुक्त राष्ट्र निकायों, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों, गैर सरकारी संगठनों, स्वैच्छिक संगठनों आदि के लिए भी स्वीकार्य है।

पात्रता

शैक्षिक योग्यता: उम्मीदवार को कम से कम एक विषय के साथ पशुपालन और पशु चिकित्सा विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, रसायन विज्ञान, भूविज्ञान, गणित, भौतिकी, सांख्यिकी और जूलॉजी या किसी मान्यता प्राप्त कृषि या वानिकी या इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। विश्वविद्यालय या इसके समकक्ष डिग्री प्राप्त करनी आवश्यक है।।

राष्ट्रीयता:
भारतीय प्रशासनिक सेवा और पुलिस सेवा के लिए एक उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए। अन्य सेवाओं के लिए, एक उम्मीदवार: - (ए) भारत का नागरिक हो, या (बी) नेपाल का, या (सी) भूटान का, या (डी) एक तिब्बती शरणार्थी जो 1 जनवरी, 1962 से पहले भारत आया था,स्थायी रूप से बसने के इरादे से, या (person) भारतीय मूल का व्यक्ति, जो पाकिस्तान, बर्मा, श्रीलंका, पूर्वी अफ्रीकी देशों केन्या, युगांडा, संयुक्त गणराज्य तंजानिया, जाम्बिया, मलावी से पलायन कर चुका है। ज़ैरे, इथियोपिया और वियतनाम भारत में स्थायी रूप से बसने के इरादे से आया था। बशर्ते कि श्रेणियों (बी), (सी), (डी) और (ई) से संबंधित उम्मीदवार वह व्यक्ति होगा जिसके पक्ष में भारत सरकार द्वारा पात्रता का प्रमाण पत्र जारी किया गया हो।

उम्र:
एक सामान्य वर्ग के उम्मीदवार को 21 वर्ष की आयु प्राप्त करनी आवश्यक है और इसकी अधिकतम आयु 32 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। ऊपर दिए गए पात्रता के अनुसार आयु-सीमा में छूट दी जाएगी: (i) अधिकतम पाँच वर्ष तक उम्मीदवार अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति का है; (ii) अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों के मामले में अधिकतम तीन साल तक का समय है। ऐसे उम्मीदवारों लागू आरक्षण का लाभ उठाने के पात्र होते हैं जो इन आरक्षित वर्गों से आते हैं।

परीक्षा का तरीका
आईपीएस परीक्षा में 3 चरण होते हैं प्रारंभिक, मैन्स और साक्षात्कार।

प्रीलिम्स मई-जून में आयोजित किए जाते हैं और परिणाम जुलाई-अगस्त में घोषित किए जाते हैं। मुख्य परीक्षा अक्टूबर-नवंबर में आयोजित की जाती है और इस चरण में अर्हता प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को अगले मार्च-अप्रैल में साक्षात्कार के लिए आमंत्रित किया जाता है। उम्मीदवारों की अंतिम भर्ती और पोस्टिंग उनकी रैंकिंग और उस विशेष वर्ष के दौरान भरे जाने वाले विभिन्न पदों के लिए उपलब्ध रिक्तियों पर निर्भर करती है। छात्रों को केवल प्रारंभिक परीक्षा के लिए आवेदन करना होता है। जिन उम्मीदवारों को आयोग द्वारा मुख्य परीक्षा में प्रवेश के लिए बैठने की घोषणा की गई है, उन्हें फिर से आवेदन करना होगा, जो कि उन्हें एडमिट कार्ड प्रदान किया जाएगा।

प्रीलिम्से परीक्षा में  200-200 अंकों के दो पेपर होते हैं। दोनों ही पेपर में आब्जेिक्टिव टाइप पूछे जाते हैं: 200 अंकों के इस पेपर में राष्‍ट्रीय और अंतरराष्ट्री य करंट अफेयर्स, भारतीय इतिहास और भारतीय राष्ट्री य आंदोलन, भारत और विश्व् का भूगोल, भारतीय राजतंत्र और गवर्नेंस (संविधान, पॉलिटिकल सिस्टरम, पंचायती राज, पब्लिक पॉलिसी), आर्थिक और सामाजिक विकास (सस्टेिनेबल डेवलपमेंट, गरीबी, जनसंख्याॉ), इनवायरमेंटल इकोलॉजी, बायो-डायवर्सिटी, क्लासइमेट चेंज और जनरल साइंस जैसे विषयों से ऑब्जेंक्टिव सवाल पूछे जाते हैं। इस पेपर को अटेम्ट् ड  करने के लिए समय सीमा 2 घंटे है।
पेपर II: 200 अंक के इस पेपर में कॉम्प्रिहेंशन, इंटरपर्सनल स्किल्सय, लॉजिकल रीजनिंग और एनालिटिकल एबिलिटी, डिसिजन मेकिंग और प्रॉब्ल।म सॉल्विंग, जनरल मेंटल एबिलिटी, बेसिक न्यू मरेसी और डेटा इंटरप्रिटेशन (चार्ट, ग्राफ, टेबल) से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं। इस पेपर को अटेम्ट् ड  करने के लिए समय सीमा 2 घंटे है।

मुख्य परीक्षा: मुख्य परीक्षा में वैकल्पिक विषय के कुल चार समूह दिए जाते हैं, जिनमें छात्रों को एक समूह का चयन करना होता है। छात्रों के सामने यह सीमा होती है कि वे एक से अधिक इंजीनियरिंग के पेपर का चुनाव नहीं कर सकते। वैकल्पिक पेपर के विषय तय हैं। ये विषय हैं- कृषि, एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग, एनिमल हसबैंड्री, वेटेरिनरी, जूलॉजी, बॉटनी, रसायनशास्त्र, कैमिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, फॉरेस्ट्री, जियोलॉजी, गणित, भौतिकी, मैकेनिकल इंजीनियरिंग व सांख्यिकी आदि।

साक्षात्कार: मेन एग्जारम क्लियर करने के बाद उम्मीगदवारों को पर्सनल इंटरव्यूम राउंड के लिए बुलाया जाता है। यह इंटरव्यूि लगभग 45 मिनट का होता है। उम्मी दवार का इंटरव्यूर एक पैनल के सामने होता है। इंटरव्यू  के बाद मेरिट लिस्टू तैयार की जाती है। मेरिट लिस्टए बनाते समय क्वाालिफाइंग पेपर के नंबर नहीं जोड़े जाते हैं।

सफल प्रत्याशियों को लालबहादुर शास्त्री अकादमी में प्रारंभिक प्रशिक्षण दिया जाता है, उसके बाद उन्हें देहरादून स्थित इंदिरा गाँधी नेशनल फारेस्ट एकेडमी में प्रशिक्षित किया जाता है। इसके बाद वे अस्टिटेंट कंजरवेटर, डिस्ट्रिक्ट कंजरवेटर, कंजरवेटर, चीफ कंजरवेटर तथा प्रिंसिपल कंजरवेटर के पद से होते हुए इंस्पेक्टर जनरल ऑफ फारेस्ट के पद तक पहुँच जाते हैं। भारतीय वन सेवा का वरिष्ठतम पद केंद्र सरकार का पर्यावरण सचिव का पद है। 

सिविल सेवा की अन्य सेवाओं के बारे में विस्तार से जानने के लिए नीचे क्लिक करें

Connect me with the Top Colleges