Get All India Board Examination Results 2020

मनोविज्ञान में करियर

क्या आपने कभी मनोवैज्ञानिक होने के बारे में सोचा है? एक उदास व्यक्ति को आपके साथ संगीत की धुन की मदद से इलाज करने का विचार कैसे लगता है? क्या आपने कभी बच्चों के लिए आर्ट थेरेपी के बारे में सुना है? यदि यह सब आपको दिलचस्प लगता है, तो मनोविज्ञान में करियर विकल्प आपका इंतजार कर रहा है। आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति किसी ना किसी तरह की मानसिक पीढ़ा से गुजर रहा है। गुस्सा, तनाव, दुख, तकलीफ के चलते व्यक्ति अपने मन की बात दूसरों को कह नहीं पाता जो उसकी मानसिक पीढ़ा का कारण बनते हैं। लोगों की इसी परेशानी से मुक्ति दिलाने को मनोविज्ञान कहा जाता है और उनका मानसिक रुप से इलाज करने वाले को मनोविज्ञानिक या साइक्लॉजिस्ट कहा जाता है।

मनोविज्ञान की पढ़ाई आज के समय की जरूरत बन चुकी है, क्योंकि आज लोग काफी तनाव भरी जिंदगी जी रहे हैं. इस वजह से लोग डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं. ऐसे लोगों के इलाज के लिए मनोवैज्ञानिकों की जरूरत बढ़ती जा रही है. आत्मा एवं मन का विज्ञान, मनोविज्ञान बहतु ही रोचक विषय है इससे के जरिए आप हर उम्र के व्यक्ति के मन की बात सहजता से जान सकते हैं। आज की तनाव भरी, तेज और स्पर्धा से भरी जिन्दगी में लोग दूसरे से आगे निकलने की होड़ में हसंना-खुश होना ही भूलते जा रहे हैं जिसकी वजह से इंसान को कई तरह की दिमागी बीमार होने लगी हैं। अवसाद सबसे प्रमुख है। ऐसे में लोग आत्महत्या जैसे कदम उठाने में भी नहीं हिचकिचाता, ऐसे में मनोविज्ञान उसके लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

अक्सर लोगों की राय है कि मनोवैज्ञानिक बनने के लिए मनोविज्ञान का अध्ययन करना ही छात्रों का एकमात्र करियर विकल्प है। जबकि ऐसा नहीं है। एक मनोविज्ञान डिग्री के साथ सशस्त्र, आप चिकित्सा और मानसिक स्वास्थ्य के बाहर करियर के विभिन्न विकल्पों का विकल्प चुन सकते हैं।

छात्र प्रयोगात्मक और व्यावहारिक मनोविज्ञान का विकल्प चुन सकते हैं और विभिन्न विषयों पर शोध कर सकते हैं। विशेषज्ञता के क्षेत्रों में बाल विकास, उम्र बढ़ने की प्रक्रिया, सामाजिक व्यवहार या संज्ञानात्मक मनोविज्ञान शामिल हैं। वे कॉलेजों, विश्वविद्यालयों, अनुसंधान केंद्रों और सरकारी और गैर-सरकारी संगठनों में रोजगार पा सकते हैं। सफल साइकोलॉजिस्ट्स बनने के लिए अच्छा संचार कौशल, धैर्यशील और सभी उम्र के लोगों के साथ काम करने की कला होनी चाहिए. इसके साथ ही साइकोलॉजिस्ट्स के लिए सेंसिटिव, केयरिंग, आत्मविश्वासी होने के साथ क्लाइंट को संतुष्ट करने की योग्यता भी आवश्यक है।

शैक्षणिक योग्यता

मनोविज्ञान में करियर बनाने के लिए कई जगह 10 वीं कक्षा के बाद मनोविज्ञान एक विषय के रूप में पढ़ाया जाता है। यहां से इसकी नींव मजबूत की जा सकती है। हालांकि मनोविज्ञान में स्नातक कोर्स करने के लिए अभ्यर्थी का 12 वीं कक्षा पास होना जरूरी है। इसके बाद पोस्ट ग्रेजुएशन और बाद में एमफिल और पीएचडी तक की जा सकती है। क्या हैं कोर्स के नाम बीए इन साइकोलॉजी, बीए ऑनर्स इन साइकोलॉजी, बीएससी इन अप्लायड साइकोलॉजी, पीजी डिप्लोमा इन गाइडेंस एंड काउंसलिंग, पीजी डिप्लोमा इन चाइल्ड साइकोलॉजी केयर एंड मैनेजमेंट, पीजी डिप्लोमा इन क्लिनिकल एंड कम्युनिटी साइकोलॉजी जैसे कोर्स किए जा सकते हैं। 


भारत में मनोविज्ञान की करियर संभावनाएं


भारत में कई कंपनियां भर्ती, प्रशिक्षण, प्रतिभा प्रबंधन और सीखने और विकास के लिए मनोवैज्ञानिकों की तलाश करती हैं। उपभोक्ता व्यवहार और बाजार के रुझान का अध्ययन करने वाले अनुसंधान विश्लेषकों को बाजार अनुसंधान कंपनियों और यहां तक कि गैर-सरकारी संगठनों द्वारा भी मांगा जाता है। पत्रकारिता, जनसंपर्क और विज्ञापन में भी करियर बना सकते हैं। फोरेंसिक मनोविज्ञान में विशेषज्ञता से पुलिस विभाग और अपराध शाखाओं में नौकरी मिल सकती है। बाल और महिला कल्याण, शैक्षिक आवश्यकताओं और आपराधिक व्यवहार में आगे विशेषज्ञता प्राप्त की जा सकती है। एक शोधकर्ता, स्कूल शिक्षक और सहायक प्रोफेसर के रूप में शिक्षाविदों में करियर बनाने की बहुत गुंजाइश है। मनोविज्ञान में पोस्ट-ग्रेजुएशन के बाद कोई भी व्यक्ति बी.एड कर सकता है। और पीजीटी मनोविज्ञान के रूप में काम करते हैं या विश्वविद्यालय पात्रता आयोग (यूजीसी) द्वारा सहायक प्रोफेसर के रूप में पात्रता के लिए हर छह महीने में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नीट) को पास करते हैं।

मनोविज्ञान के क्षेत्र में करियर की अन्य सूची के लिए नीचे क्लिक करें:


Connect me with the Top Colleges