Get All India Board Examination Results 2020

रोबोटिक्स इंजीनियर

यदि आपके पास स्वचालित मशीनों के लिए आकर्षण है, यदि आपकी मशीनो के प्रति रुचि है, यदि आप मैकेनिकल एप्टीट्यूड और टोकेर इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करना चाहते हैं तो आप निश्चित रूप से रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में अपना करियर शुरू कर सकते हैं। रोबोटिक्स इंजीनियरिंग की वह शाखा है जिसके तहत रोबोट की डिजाइनिंग, उनका अनुरक्षण, नए एप्लिकेशन का विकास और अनुसंधान जैसे काम सम्मिलित किए जाते हैं। रोबोटिक्स में मेनिपुलेशन तथा प्रोसेसिंग के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है। यह कृषि, खनन, परमाणु ऊर्जा-संयंत्र रखरखाव, और अन्य क्षेत्रों की एक किस्म में रोबोटिक्स अनुप्रयोगों के लिए लगातार खुलने वाले कंप्यूटिंग अनुप्रयोगों की नई संभावनाओं के साथ सबसे तेजी से विकसित क्षेत्र है।

रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में रोबोट की डिजाइनिंग, निर्माण और उसकी संचालन तकनीक के विकास पर काम किया जाता है। रोबोट के संचालन के लिए एक कंप्यूटरीकृत नियंत्रण तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है, जो सेंसर और इंफॉर्मेशन प्रोसेसर के तालमेल पर आधारित होता है। 

रोबोटिक्स इंजीनियर के कार्य

रोबोट को डिजाइन करना और उनके लिए कंप्यूटरीकृत एप्लीकेशन विकसित करना रोबोटिक इंजीनियर का प्रमुख काम होता है। इस काम में उन्हें लोगों/ उद्यमों (जिन्हें रोबोट की जरूरत हो) की आवश्यकता का ध्यान रखना पड़ता है। यह आवश्यकता ही रोबोट के डिजाइन, सेंसर, प्रोसेसर, कलपुर्जों के पदार्थ और आकार का निर्धारण करती है। इसके अलावा इंजीनियर को रोबोट में लगे इलेक्ट्रॉनिक पुर्जों का निरीक्षण, रोबोट का परीक्षण और उसकी तकनीक संबंधी खामियों का पता लगाना होता है। रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में बेसिक इंजीनियरिंग के सिद्धांत तथा रोबोट्स का विकास तथा उपयोग करने के लिए तकनीकी दक्षता सिखाई जाती है। इसमें डिजाइन इंस्ट्रक्शन, ऑपरेशन टेस्टिंग, सिस्टम मेंटेनेंस तथा रिपेयरिंग आदि शामिल हैं। बोटिक्स को सामान्यतः चार वर्गों में बांटा जा सकता है। 
ये हैं- औद्योगिक रोबोट, पर्सनल रोबोट, मेडिकल उपयोग के लिए रोबोट तथा ऑटोनोमस रोबोट इत्यादि।

रोबोटिक्स इंजीनियर्स की भूमिका

  • डिबग रोबोटिक्स कार्यक्रम करना।
  • रोबोट सिस्टम के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करना।
  • डिजाइन, गणना या लागत अनुमानों की समीक्षा या अनुमोदन करना।
  • रोबोट स्थापित करना, कैलिब्रेट करना, संचालित करना या बनाए रखना।
  • प्रौद्योगिकीविदों, तकनीशियनों, या अन्य इंजीनियरों का पर्यवेक्षण करना।
  • रोबोटिक्स को बाह्य उपकरणों के साथ एकीकृत करना, जैसे वेल्डर, नियंत्रक या अन्य उपकरण आदि।
  • सिग्नल या सेंसर डेटा की प्रक्रिया या व्याख्या करना।
  • यांत्रिक विफलताओं या अप्रत्याशित रखरखाव समस्याओं की जांच करना।
  • रोबोट कार्यक्रमों या मापदंडों का बैक-अप बनाएं रखना।
  • स्वचालित राइबोन्यूक्लिक एसिड (आरएनए) विश्लेषण या सॉर्टिंग, मूविंग, या स्टैकिंग उत्पादन सामग्री जैसे उच्च-थ्रूपुट संचालन में उत्पादन की मात्रा या परिशुद्धता बढ़ाने के लिए स्वचालित रोबोट सिस्टम डिज़ाइन करना।

रोबोटिक्स इंजीनियर के आवश्यक कौशल

ज्ञान

इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी: इंजीनियरिंग विज्ञान और प्रौद्योगिकी के व्यावहारिक अनुप्रयोग का ज्ञान होना चाहिए।

कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक्स: अनुप्रयोगों और प्रोग्रामिंग सहित सर्किट बोर्ड, प्रोसेसर, चिप्स, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की जानकारी होनी आवश्यक है।

डिजाइन: सटीक तकनीकी योजनाओं, ब्लूप्रिंट, ड्राइंग और मॉडल के उत्पादन में शामिल डिजाइन तकनीकों, उपकरणों और सिद्धांतों का ज्ञान होना जरुरी है।

मैकेनिकल: मशीनों और उपकरणों का ज्ञान, उनके डिजाइन, उपयोग, मरम्मत और रखरखाव आना चाहिए।

गणित: अंकगणित, बीजगणित, ज्यामिति, पथरी, सांख्यिकी और उनके अनुप्रयोगों का ज्ञान होना चाहिए।

भौतिकी: भौतिक सिद्धांतों, कानूनों, उनके अंतर्संबंधों, और द्रव, सामग्री और वायुमंडलीय गतिशीलता, और यांत्रिक, विद्युत, परमाणु और उप-परमाणु संरचनाओं और प्रक्रियाओं को समझने के लिए ज्ञान और भविष्यवाणी।

रोबोटिक्स इंजीनियर के व्यक्तिगत कौशल

महत्वपूर्ण सोच: रोबोटिक्स इंजीनियर को वैकल्पिक समाधानों, निष्कर्षों या समस्याओं के दृष्टिकोण की शक्तियों और कमजोरियों की पहचान करने के लिए तर्क और वितर्क का उपयोग करना चाहिए।

सक्रिय श्रवण: रोबोटिक्स इंजीनियर को इस बात पर पूरा ध्यान देना चाहिए कि दूसरे लोग क्या कह रहे हैं, जो अंक बनाए जा रहे हैं, उन्हें समझने के लिए समय लेना चाहिए, प्रश्न पूछना उचित होगा, और अनुचित समय पर हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

समस्या सुलझाने का कौशल: विकल्पों के विकास और मूल्यांकन के लिए कॉम्प्लेक्स समस्याओं की पहचान करना और संबंधित सूचनाओं की समीक्षा करना किसी भी एप्लिकेशन के विकास के दौरान आवश्यक कौशल है।

निर्णय लेना: रोबोटिक्स इंजीनियरों को सबसे उपयुक्त एक का चयन करने के लिए संभावित कार्यों की सापेक्ष लागत और लाभों पर विचार करना चाहिए।

रोबोटिक्स इंजीनियर की शैक्षणिक योग्यता

रोबोटिक्स के क्षेत्र में करियर बनाने हेतु 12वीं कक्षा में भौतिक एवं गणित विषय होना नितांत आवश्यक है। इसके साथ ही साथ उच्चतम प्रतियोगी तथा तकनीकी क्षेत्र में आविष्कार तथा कुछ नया करने के लिए सृजनात्मक योग्यता भी बेहद जरूरी है।  रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में अधिकांश प्रवेश स्तर के पदों के लिए इंजीनियरिंग या संबंधित क्षेत्र में स्नातक की डिग्री आवश्यक है। विभिन्न इंजीनियरिंग डिग्री विषय हैं जो आपको रोबोटिक्स इंजीनियर- मैकेनिकल इंजीनियर, विनिर्माण इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग या औद्योगिक इंजीनियरिंग बनने के लिए ले जा सकते हैं। कुछ कॉलेज और विश्वविद्यालय अब रोबोटिक्स इंजीनियरिंग की डिग्री प्रदान करते हैं।

इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल करने में आमतौर पर चार से पांच साल लगते हैं। कुछ कॉलेज कार्य-अध्ययन कार्यक्रम प्रदान करते हैं जिसमें छात्र स्कूल में रहते हुए भी नौकरी पर प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं। रोबोटिक्स पाठ्यक्रमों की पेशकश करने वाले अधिकांश विश्वविद्यालयों में लेजर और सीएडीडी / सीएएम उपकरण के साथ अच्छी तरह से सुसज्जित प्रयोगशालाएं हैं।

कुछ पदों के लिए, और क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए, आपको मास्टर डिग्री या पीएचडी की आवश्यकता होती है। इस क्षेत्र के साथ-साथ अधिकांश उच्च-स्तरीय शोध पदों के लिए पीएचडी की आवश्यकता होती है। एक मास्टर की डिग्री के लिए एक से दो साल की अतिरिक्त स्कूली शिक्षा की आवश्यकता होती है, जबकि एक पीएचडी स्कूल में तीन से पांच अतिरिक्त साल लगते हैं। जो इंजीनियर सबसे अच्छी प्रत्याशित जरूरतों को पूरा कर सकते हैं जो रोबोट द्वारा सफलतापूर्वक भरे जा सकते हैं, और जो उन्हें विकसित करने के लिए इंजीनियरिंग टीमों में प्रभावी ढंग से काम कर सकते हैं, वे क्षेत्र में बेहद सफल होंगे।

रोबोटिक्स इंजीनियरिंग की करियर संभावनाएं

रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में स्पेशलाइजेशन से मैन्युफैक्चरिंग, कृषि, खनन, परमाणु ऊर्जा संयंत्र जैसे क्षेत्रों में करियर निर्माण के दरवाजे खुल जाते हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा योग्य रोबेटिक्स प्रोफेशनल्स को बड़ा भारी वेतन एवं अन्य सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। विदेशों में भी रोबोटिक्स इंजीनियरों की भारी मांग है। इस फील्ड में स्टूडेंट को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, कंप्यूटर एडेड मैन्यूफैक्चरिंग, कंप्यूटर, इंटिग्रेटेड मैन्यूफैक्चरिंग सिस्टम, कंप्यूटर ज्योमेट्री, रोबोट मोशन प्लानिंग, डिजीटल इलेक्ट्रॉनिक्स और माइक्रो प्रोसेसिंग में ट्रेन किया जाता है। आधुनिक समय में रोबोट से काम करवाना मनुष्य की जरूरत भी है। रोबोट का उपयोग भारीभरकम काम कराने या न्यूक्लियर कचड़ो को निपटाने के लिए किया जाता है। हर क्षेत्र में इसकी काफी मांग है।

विनिर्माण और उत्पादन में करियर के विकल्पों के बारे में जानने के लिए नीचे दिए गएलिंक पर क्लिक करें:

Connect me with the Top Colleges