बालवाड़ी और प्राथमिक स्कूल शिक्षक

यदि आप शिक्षण और बच्चों से प्यार करते हैं, यदि आपका रुझान शिक्षा की ओर है तो आप किंडरगार्टन यानि बालवाड़ी और प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक के रुप में करियर बना सकते हैं। यह एक पुरस्कृत करियर है जहां आप अपने पेशे में पैसे के साथ सम्मान भी प्राप्त करते हैं। एक शिक्षक बच्चे के शुरुआती विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक शिक्षक ही बच्चों के उज्वल भविष्य में सहायक होता है।

किंडरगार्टन शिक्षक शिक्षण के विभिन्न तरीकों का उपयोग करते हैं जैसे कि खेलना और सीखना। वह कक्षा के अनुभव को युवा छात्रों के लिए अधिक रोचक बनाते हैं। यह कम उम्र के बच्चो को उन्हीं की भाषा और खेलों के जरिए शिक्षण के प्राथमिक स्तर से रुबरु कराते हैं। पूर्वस्कूली स्तर पर पेश किए गए पत्र की मान्यता, स्वर, संख्या और प्रकृति और विज्ञान के बारे में जागरूकता, मुख्य रूप से बालवाड़ी में सिखाई जाती है। यह बच्चों को बैठना, पढ़ना, ठीक से बोलना इत्यादि सिखाते हैं। यह खेल –खेल के जरिए बच्चों में शिक्षा के प्रति रुचि पैदा करते हैं।


बालवाड़ी और प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों की भूमिका

  • योजना पाठ बनाना।
  • बच्चों को गणित, भाषा, विज्ञान और सामाजिक अध्ययन से परिचित कराना।
  • छात्रों को उनकी क्षमताओं, शक्तियों और कमजोरियों का मूल्यांकन करने के लिए योग्य बनाना।
  • बच्चों की प्रगति के बारे में माता-पिता से संवाद करना।
  • बच्चों को चुनौती देने और उनकी कमजोरियों को दूर करने के लिए व्यक्तिगत रुप में छात्रों के साथ काम करना।
  • बच्चों को उचित व्यवहार सिखाने के लिए कक्षा के नियम विकसित करना और उन्हें लागू करना।
  • कक्षा के बाहर के बच्चों का निरीक्षण करना - उदाहरण के लिए, दोपहर के भोजन के समय या अवकाश के दौरान का समय बताना।

बालवाड़ी और प्राथमिक स्कूल के शिक्षकों के कौशल

संचार कौशल: शिक्षकों को शिक्षक सहायकों और विशेष शिक्षा शिक्षकों, माता-पिता और प्रशासकों के साथ अच्छी तरह से संवाद करने में सक्षम होना चाहिए।

रचनात्मकता: बालवाड़ी और प्राथमिक स्कूल के शिक्षकों को हर छात्र की सीखने की शैली के पाठ को अपनाने के लिए युवा छात्रों को संलग्न करने वाले पाठों की योजना बनानी चाहिए।

निर्देशात्मक कौशल: बालवाड़ी और प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों को कठिन अवधारणाओं को उन शब्दों में समझाने में सक्षम होना चाहिए जो युवा छात्र प्रत्येक छात्रों की ज़रूरतों के लिए समझ सकते हैं और उन्हें अनुकूलित कर सकते हैं।

धैर्य: धैर्य सबसे महत्वपूर्ण गुण है जो एक शिक्षक के पास होना चाहिए ताकि विभिन्न क्षमताओं और पृष्ठभूमि के छात्रों के साथ व्यवहार किया जा सके।

शैक्षिक योग्यता

बालवाड़ी और प्राथमिक स्कूल के शिक्षक के रुप में करियर बनाने के लिए वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय प्रमाण पत्र या इंटरमीडिएट या इसके समकक्ष की कक्षा पास करनी आवश्यक है। इसके बाद दो साल से कम अवधि के बुनियादी शिक्षकों के प्रशिक्षण में डिप्लोमा या प्रमाण पत्र आप प्राप्त कर शिक्षक बन सकते हैं। आप प्रारंभिक शिक्षा के स्नातक (बीएलएड) भी कर सकते हैं। 
 

करियर संभावनाएं

आप शिक्षक के रुप में सरकारी, गैर सरकारी स्कूलों में प्ले स्कूल की कक्षाओं में अध्यापन कर सकते है। आप बालबाड़ी में भी कार्य कर सकते हैं। आप खुद के प्ले स्कूल को भी अनुभव के आधार पर खोल कर शिक्षण कर सकते हैं।

Connect me with the Top Colleges