Get All India Board Examination Results 2020

भारत में माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक

यदि आपका रुझान शिक्षण की ओर है यदि आपको बच्चों को पढ़ाने में आनंद आता है। तो आप माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के रुप में करियर बना सकते हैं। माध्यमिक स्तर पर शिक्षण के सबसे बड़े आकर्षणों में से एक काम की विविधता है। एक विशिष्ट दिन के दौरान आप कई अलग-अलग वर्गों को अलग-अलग कक्षाओं में पढ़ा सकते हैं। इन कक्षाओं में विभिन्न क्षमताओं, दृष्टिकोणों और अनुभवों के साथ विद्यार्थियों को शामिल किया जा सकता है। एक प्रभावी माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक का छात्र के जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ सकता है, लेकिन एक स्थायी छाप छोड़ने के लिए और 11 से 16 साल के बच्चों की कक्षा के प्रबंधन की दैनिक चुनौतियों से निपटने के लिए नरम और विशिष्ट कौशल के मिश्रण की आवश्यकता होती है। इस उम्र के छात्रों के लिए शिक्षण बहुत आवश्यक होता है। यह उनका भविष्य तय करने की शिक्षा होती है। इसलिए माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के रुप में आप बच्चों से अधिक जुड़ पाते हैं। आप एक विशेष विषय को पढ़ाने में सक्षम होते हैं जो बच्चो के जीवन पर गहरा प्रभाव डालता है। 

भारत में माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों का कौशल

बेहतरीन संचार कौशलः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के अंदर अच्छा संचार कौशल होना चाहिए। उन्हें अलग-अलग कक्षाओं में हर उम्र के छात्र के साथ संवाद करना होता है, उन्हें पढ़ाना होता है इसके लिए संचार कौशल आवश्यक है।

मजबूत रिश्ते बनाने की क्षमताः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों के अंदर छात्रों के साथ मजबूत रिश्ते बनाने की आवश्यकता होती है ताकि वह अपनी समस्याओं को खुल कर आपके समक्ष रख सकें।

मजबूत विषय ज्ञानः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों को अपने विषय का पूरा ज्ञान होना चाहिए। उनके अपने विषय पर पूरी पकड़ होनी चाहिए ताकि वह बच्चों को बेहतर ढंग से समझा सकें।

छात्रों की क्षमता को समझनाः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक का सबसे बड़ा कौशल यही होता है कि वह बच्चों की क्षमता को पहचाने और समझे। उनकी कमजोरियों को दूर करना और उन्हें समझाने का कौशल माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के अंदर होना चाहिए।

अच्छा समय प्रबंधनः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के अंदर समय प्रबंधन का कौशल होना चाहिए ताकि वह बच्चों को भी यह समझा सकें।

धैर्य और सहनशीलताः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के अंदर धैर्य का गुण होना चाहिए। कुछ बच्चों को समझाने में अधिक समय लग सकता है इसके लिए अपने भीतर धैर्य रखना चाहिए।

संगठनात्मक कौशलः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों के अंदर संगठनात्मक कौशल होना चाहिए।

नेतृत्व और प्रेरक कौशलः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक बच्चों के लिए उनकी प्रेरणा होते हैं उनके अंदर नेतृत्व गुण अवश्य होना चाहिए।

एक सहायक और देखभाल प्रकृतिः माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों के अंदर देखभाल की प्रकृति का गुण होना चाहिए। ताकि वह बच्चों के साथ अच्छे संबध स्थापित कर उनका ध्यान रख सकें।

माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों की भूमिका

  • पाठ्यक्रम के एक विशिष्ट क्षेत्र के भीतर गतिविधियों और संसाधनों का समन्वय करना।
  • पाठ योजनाओं का विकास करना।
  • बच्चों के लिए गतिविधियों और चार्ट तैयार करना।
  • नियमित आधार पर आकलन करना।
  • पूरी कक्षा की जरूरतों को पूरा करने वाले पाठ तैयार करना और प्रस्तुत करना।
  • माता-पिता को समय-समय पर प्रतिक्रिया प्रदान करना।

माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक की शैक्षणिक योग्यता

माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के रुप में उच्च कक्षाओं को पढ़ाना जो चाहते हैं, वे मास्टर डिग्री उत्तीर्ण करने के बाद पीजीटी और टीजीटी पाठ्यक्रमों का अनुसरण कर सकते हैं। किसी विशिष्ट क्षेत्र का लाभ पाने के लिए व्यावसायिक पाठ्यक्रम भी कर सकते हैं। एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय से बैचलर ऑफ एजुकेशन (बीएड) की डिग्री करने की आवश्यकता होती है, जो आमतौर पर कक्षा शिक्षण सहित 2 वर्ष की अवधि होती है, एक बीएड डिग्री सभी माध्यमिक शिक्षकों के लिए आवश्यक है चाहे वह निजी या सरकारी स्कूल में पढ़ा रहे हों। पीजीटी स्तर का टीचर बनने के लिए, उम्मीदवार के पास परा-स्नातक (एमए, एमएससी) की डिग्री और बीएड की डिग्री होनी चाहिए। 
 

माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक की करियर संभावनाएं

माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक  के रुप में आप कक्षा 6 से 12 तक के बच्चों को पढ़ा सकते हैं। आप सरकारी और गैर सरकारी विद्यालयों में शिक्षण कर सकते हैं। केंद्रीय विद्यालयों जैसे उच्च गुणवत्तापूर्ण शैक्षणिक संस्थान में अध्यापन कार्य करना निश्चित रूप से आपके लिए एक गौरवान्वित करने वाला एहसास होगा।



Connect me with the Top Colleges