Get All India Board Examination Results 2021

भारतीय वायु सेना में करियर

क्या आप भी आसमां छूना चाहते हैं, क्या बादलों के बीच उड़ान भरना आपका सपना है, क्या आप गति और रोमांच से रोमांचित हैं? क्या आप सचमुच ऊंची उड़ान भरना चाहते हैं?  यदि ऐसा है तो फिर आप प्रतिष्ठित भारतीय वायु सेना में शामिल हो एक सुंदर भविष्य बना सकते हैं। यदि आपके पास साहस है, यदि चुनौतियां आपको उत्तेजित करती हैं और यदि बोरियत आपको निराश करती है, तो भारतीय वायु सेना में शामिल होना आपके लिए सही निर्णय होगा। भारतीय सेना में इंडियन एयर फोर्स को प्रसिद्धि सबसे ज्यादा है। आसमान की ऊंचाई और रोमांच से भरे इस करियर में जाने के लिए हर साल कई युवा इसकी तैयारी करते है।

वैसे अगर आपने सोचा है कि भारतीय वायु सेना में शामिल होने के लिए उड़ान एकमात्र विकल्प है, तो आप गलत हैं। तकनीकी और गैर-तकनीकी, फ्लाइंग ब्रांच और ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच दोनों तरह के अवसर इस क्षेत्र में उपलब्ध है। भारतीय वायु सेना का हिस्सा बनने के साथ ही नेतृत्व, मैनेजमेंट स्किल और डायनामिक थिंकिंग का भाव आपके अन्दर विकसित हो जाता है जो आपके  वास्तविक जीवन के परिस्थितियों का सामना करने के लिए भी आपको तैयार करने का कार्य करती है। सच तो यह है कि वायु सेना युवा लड़कों और लड़कियों को  चुनकर उनमें एक ऑफिसर बननें की शक्ति और गुणों को भरकर उन्हें सक्षम बनाती है और जो उन्हें भीड़ का हिस्सा बनने से अलग कर जीवन में एक खास मुकाम प्रदान करती है।

भारतीय वायु सेना की शाखाएँ
उड़ान शाखा
सेनानियों
परिवहन
हेलीकाप्टर
तकनीकी शाखा
यांत्रिक
इलेक्ट्रानिक्स

आप इन रुपों में भी वायु सेना में कार्य कर सकते हैं

1. उड़ान शाखा
एयर फोर्स की इस शाखा में पायलटों को ट्रेनिंग दी जाती है। अगर आप भी लड़ाकू विमान से आसमान की ऊंचाईंया छूना चाहते है तो फ्लाइंग ब्रांच ज्वाइन करके आप अपना ये सपना पूरा कर सकते है।

2. तकनीकी शाखा
इस ब्रांच में टेक्निकल ट्रेनिंग दी जाती है। अगर आप टेक्निकल का हिस्सा बनते है तो आपको एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस, सर्विसिंग और एयरफोर्स स्टेशन पर कम्यूनिकेशन और सिग्नल की जांच आदि के बार में विस्तार से बताया जाता है।

3. ग्रांड ड्यूटी शाखा
 एयर फोर्स की इस शाखा का काम वायुसेना को मार्गदर्शन देने का रहता है। ये लोग ह्यूमन और मटीरियल जैसे संसाधनों को संभालने करने का काम करते है।

उड़ान शाखा में प्रवेश कैसे पाएं

अगर आप फ्लाइंग ब्रांच में शामिल होते हैं तो आप हेलिकॉप्टर पायलट, फाइटर पायलट या ट्रांसपोर्ट पायलट के रुप में किसी भी विशेषज्ञ के पास जा सकते हैं। अगर आप भी एयर फोर्स में जाने का सपना देख रहे है तो इसके लिए आपको एनडीए (नेशनल डिफेंस एकेडमी) का एग्जाम देना होगा। सेना में भविष्य तलाश रहे युवाओं के लिए हर साल एनडीए (नेशनल डिफेंस एकेडमी) की परीक्षा आयोजित की जाती है। इसमें आर्मी, नेवी, एयरफोर्स और नेवल एकेडमी की संयुक्त परीक्षा होती है। ये परीक्षा देश में यूपीएससी द्वारा देश के 41 सेंटरों पर आयोजित की जाती है। एनडीए की परीक्षा देने के लिए आपको फिजिक्स और मैथ्स के साथ 12वीं पास करना जरूरी है। एनडीए में जान के लिए एक लिखित एग्जाम के साथ ही इंटरव्यू भी होता है। लिखित परीक्षा का पैटर्न वस्तुनिष्ठ टाइप का होता है जिसमें मैथमेटिक्स और जनरल एबिलिटी के प्रश्न पूछे जाते है।

ट्रेनिंग

एयर फोर्स में टेक्निकल और नॉन टेक्निकल दोनों फील्ड में भर्ती की जाती है। इसमें बारहवीं, ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के कोर्स उपलब्ध है। आप 12वीं मैथ्स ग्रुप से पास करने के बाद एनडीए एग्जाम में शामिल होकर एयर फोर्स में शामिल हो सकते है। एनडीए में सेलेक्ट होने के बाद तीन वर्षीय कोर्स करवाया जाता है। अगर आप मैथ्स के साथ बीएससी करते है तो आपको एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग और पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच से संबंधित ट्रेनिंग ले सकते है। इसके अलावा आप बीकॉम करने के बाद भी एयर फोर्स के एकाउंट डिपार्टमेंट में जा सकते है।

टेक्निकल ब्रांच में प्रवेश कैसे करें

टेक्निकल ब्रांच के रुप में आप सबसे परिष्कृत उपकरणों को संभालने के लिए विशेषाधिकार प्राप्त होंगे। इलेक्ट्रॉनिक्स या मैकेनिकल इंजीनियरिंग की अपनी धारा के आधार पर, आप भारतीय वायु सेना के तकनीकी प्रभाग की किसी भी शाखा में शामिल हो सकते हैं। तकनीकी शाखा में प्रवेश एएफसीएटी के माध्यम से जून और दिसंबर में होता है। इलेक्ट्रॉनिक्स या मैकेनिकल शाखाओं या अंतिम वर्ष में इंजीनियरिंग पूरा कर चुके छात्र आवेदन करने के पात्र हैं। 25 वर्ष से कम उम्र के अविवाहित पुरुष और महिलाएं दोनों पद के लिए आवेदन कर सकते हैं

ग्राउंड ड्यूटी शाखा में प्रवेश कैसे करें

ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच के अधिकारी लॉजिस्टिक्स, शिक्षा, प्रशासन और खातों और बहुत कुछ बनाए रखते हैं। आप हवाई यातायात नियंत्रक, आंतरिक लेखा परीक्षक और संसाधन प्रबंधकों के रूप में काम कर सकते हैं। नियुक्ति के समय स्नातक और अविवाहित दोनों पुरुष और महिलाएं ग्राउंड ड्यूटी शाखा में शामिल हो सकते हैं।

ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच
शासन प्रबंध
हिसाब किताब
रसद
शिक्षा
अंतरिक्ष-विज्ञान

इन शैक्षिक योग्यता के आधार पर, आप भारतीय वायुसेना में शामिल हो सकते हैं:

12वीं के बाद के अवसर
भौतिकी और गणित के साथ 12 वीं कक्षा में विज्ञान की योग्यता पूरी कर चुके युवा लड़के एनडीए और नौसेना अकादमी परीक्षा में शामिल होकर भारतीय वायु सेना में एक अधिकारी के रूप में शामिल हो सकते हैं। एनडीए में 3 साल के कठोर प्रशिक्षण के बाद, आपको विभिन्न वायु सेना स्टेशनों में अधिकारियों और पायलटों के रूप में कमीशन दिया जाएगा।

स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद
अगर आप राष्ट्रीय रक्षा अकादमी  का हिस्सा बनना चाहते हैं तो इसके लिए आप केंद्रीय लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित एनडीए परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। यह परीक्षा प्रत्येक वर्ष में दो बार देश के प्रमुख शहरों में स्थित परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जाती है। साथ ही  भौतिकी और गणित के साथ 10 + 2 पास होना चाहिए साथ ही अंतिम वर्ष के छात्र भी इसके लिए आवेदन करने के पात्र हो सकते हैं।

तकनीकी और ग्राउंड ड्यूटी शाखाओं के लिए, आपको संबंधित शाखा में अपना स्नातक पूरा करना होगा। यदि आपने तकनीकी शाखा का विकल्प चुना है, तो आपके पास इलेक्ट्रॉनिक्स या मैकेनिकल इंजीनियरिंग में इंजीनियरिंग की डिग्री होनी चाहिए। ग्राउंड ड्यूटी ऑफिसर के लिए, आईएएफ में ग्राउंड ड्यूटी ऑफिसर के रूप में विभिन्न करियर के अवसरों के लिए आवश्यक योग्यता के लिए यहां क्लिक करें। 

पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद
ग्राउंड ड्यूटी ऑफिसर के रूप में अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद आप आईएएफ में भी शामिल हो सकते हैं।

शारीरिक मानक
पूर्ण प्रेरणा के बाद छाती के विस्तार की न्यूनतम सीमा 5 सेमी होनी चाहिए।
शरीर की हड्डियों और जोड़ों की कोई बीमारी नहीं होनी चाहिए।
सामान्य सुनाई देना चाहिए।
सामान्य रक्तचाप
अच्छी दूरबीन दृष्टि
ध्वनि मानसिक स्वास्थ्य

चयन प्रक्रिया

चरण 1
सीडीएसई एंट्री
यह अवसर विशेष रूप से पुरुषों के लिए है जिसे ग्रेजुएशन के बाद केवल फ्लाइंग शाखा के लिए आवेदन किया जा सकता है। सीडीएसई के लिए संघ लोक सेवा आयोग अर्थात यूपीएससी प्रत्येक साल में दो बार परीक्षा आयोजित करती है।अभ्यर्थियों के लिए एफए द्वारा प्रशिक्षण आयोजित किया जाता है और इसमें सफल उम्मीदवारों के लिए विशेष उड़ान प्रशिक्षण प्रतिष्ठानों में भेजा जाता है। यह सेवा भी एनडीए की तरह सभी तीनों सेनाओं के लिए उपलब्ध है।

एएफसीएटी प्रवेश - इंडियन एयर फोर्स में ऑफिसर बनने के लिए यह सबसे बड़ी भर्ती प्रक्रिया है। यह टेस्ट पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए है जिसके माध्यम से आईएएफ के तीनों शाखाओं अर्थात फ्लाइंग, टेक्निकल और ग्राउंड ड्यूटी के लिए कर्मचारियों का चयन किया जाता है। आईएएफ के लिए एएफटीटीए हर साल फरवरी और अगस्त में दो बार परीक्षा का आयोजन करती है साथ ही टेक्नीकल ब्रांच के एस्पिरंट्स के लिए ईकेटी (इंजीनियरिंग नॉलेज टेस्ट) नामक एक अतिरिक्त परीक्षा का आयोजन किया जाता है। अलग-अलग ब्रांचों के लिए पात्रता और प्रशिक्षण प्रक्रिया अलग-अलग प्रकार के होते हैं। 

एनसीसी प्रवेश - फ्लाइंग ब्रांच को लक्ष्य बनाने वाले युवाओं के लिए यह स्पेशल एंट्री है जो सिर्फ पुरुषों के लिए है। इसके अंतर्गत प्रशिक्षण प्रक्रिया लगभग सीडीएसई के समान है। इसके लिए राष्ट्रीय कैडेट कोर अर्थात एनसीसी के एयर विंग सीनियर डिवीजन 'सी' प्रमाणपत्र धारक आवेदन कर सकते हैं। यदि आप एनसीसी के एयर विंग सीनियर डिवीजन 'सी' प्रमाणपत्र धारक हैं तो आपके लिए भारतीय वायु सेना के फ्लाइंग शाखा शामिल होने का सुनहरा मौका हो सकता है।
मेट्रोलोजिकल ब्रांच : यह ब्रांच केवल स्नातकोत्तर छात्रों के लिए है जिसके अंतर्गत पुरुष और महिला दोनों के लिए परमानेंट और शॉर्ट सर्विस कमीशन सेवा प्रदान किया जाता है।

चरण 2

इस चरण में सेवा चयन बोर्ड टेस्ट (एसएसबी) शामिल है, जब आप चरण 1 लिखित परीक्षा को पूरी कर चुके होते हैं। 

चरण 3

पहले दो दौर पूरा करने के बाद, एक मेडिकल परीक्षा वायु सेना केंद्रीय चिकित्सा प्रतिष्ठान, नई दिल्ली या इंस्टीट्यूट ऑफ एविएशन मेडिसिन, बेंगलुरु में आयोजित की जाती है।

करियर की संभावनाएं

इंडियन एयर फोर्स एक ऐसी फील्ड है जिसमें रोजगार की कई संभावनाएं उपलब्ध है। इसकी तीनों शाखाओं फ्लाइंग, टेक्निकल और ग्रांड ड्यूटी में कई पदों पर आपको काम करने का मौका मिलता है। जैसे फ्लाइंग ब्रांच में आप फाइटर पायलट, ट्रांसपोर्ट पायलट और हेलिकॉप्टर पायलट के रूप में काम कर सकते है। फ्लाइंग ब्रांच में फ्लाइंग ऑफिसर, फ्लाइट लेफ्टिनेंट, स्क्वाड्रन लीडर, विंग कमांडर, ग्रुप कमांडर, ग्रुप कैप्टन, एयर मार्शल, एयर चीफ जैसे पदों पर आपको काम करने का मौका मिलता है।

वेतन
पे बैंड में भुगतान (सभी शाखाओं के लिए सामान्य) -  15,600 रुपय प्रति माह (अधिकारी को पीबी 3 - 15600-39100 में रखा जाएगा)
ग्रेड पे: - 5400 रुपये
सैन्य सेवा वेतन: - 6000 रु
महंगाई भत्ता 113 प्रतिशत: - 30510 रुपये
किट अनुरक्षण भत्ता: - 600 रु
परिवहन भत्ता: - 3200 रुपये डीए (प्रमुख शहर) / 1600 डीए (अन्य शहर)

भारतीय वायु सेना के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Connect me with the Top Colleges