Get All India Board Examination Results 2020

डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर

यदि आप स्वास्थ्य सेवा उद्योग में काम करना चाहते हैं और इस प्रक्रिया में नवीनतम प्रौद्योगिकी मशीनों का उपयोग करने में भी रुचि रखते हैं, तो नैदानिक चिकित्सा सोनोग्राफर यानि डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर के रुप में आप एक शानदार करियर बना सकते हैं। डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर मेडिकल अल्ट्रासाउंड (आंतरिक संरचनाओं की छवियों को उत्पन्न करने वाली उच्च आवृत्ति वाली ध्वनि तरंगों) का उपयोग करके रोगियों को सेवाएं प्रदान करता है। अल्ट्रासाउंड प्रक्रियाओं के उपयोग और व्याख्या के लिए जिम्मेदार एक चिकित्सक की देखरेख में काम करते हुए, सोनोग्राफर विभिन्न स्थितियों और रोगों के निदान के लिए सोनोग्राफिक डेटा इकट्ठा करने में मदद करता है, साथ ही भ्रूण के विकास की निगरानी भी करता है। सोनोग्राफर विभिन्न चिकित्सा सेटिंग्स में रोगी सेवाएं प्रदान करता है जिसमें चिकित्सक अल्ट्रासाउंड प्रक्रियाओं के उपयोग और व्याख्या के लिए जिम्मेदार होता है।

नैदानिक चिकित्सा सोनोग्राफर आमतौर पर पेश की जाने वाली सात विशेषताओं में से एक या अधिक विशेषज्ञ होते हैं जिनमें प्रसूति और स्त्री रोग,स्तन; पेट इकोकार्डियोग्राफी; संवहनी प्रौद्योगिकी; नेत्र विज्ञान; और, तंत्रिका विज्ञान शामिल है।

डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर की भूमिका

  • अल्ट्रासाउंड प्रक्रियाओं का उपयोग और व्याख्या करना।
  • सोनोग्राफिक डेटा इकट्ठा करने में चिकित्सकों की सहायता करना।
  • डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर अच्छी निदान परिणामों की सुविधा के लिए प्रासंगिक रोगी के इतिहास को प्राप्त करने, समीक्षा करने और नैदानिक डेटा का समर्थन करने में सक्षम होते हैं।
  • एक चिकित्सक द्वारा व्याख्या के लिए उपयुक्त प्रक्रियाएं करना और शारीरिक, पैथोलॉजिकल और / या शारीरिक डेटा रिकॉर्ड करना।
  • व्याख्या करने वाले चिकित्सक को प्रस्तुत करने के लिए प्रक्रिया के दौरान किए गए सोनोग्राफिक डेटा और अन्य प्रासंगिक अवलोकन रिकॉर्ड और प्रक्रिया देखना।
  • सोनोग्राफिक सेवाओं के प्रदर्शन में विवेक और निर्णय लेना
  • चिकित्सा अल्ट्रासाउंड से संबंधित रोगी शिक्षा प्रदान करना और अच्छे स्वास्थ्य के सिद्धांतों को बढ़ावा देना।
  • डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर के आवश्यक कौशल 
  • पारखी नजरः रोगी का निदान और उपचार करने के लिए आवश्यक चिकित्सीय सोनोग्राफर्स को सटीक निर्देशों का पालन करना चाहिए। रोगी के शरीर को स्कैन करते समय उन्हें स्क्रीन पर भी ध्यान देना चाहिए क्योंकि अस्वस्थ लोगों के साथ स्वस्थ क्षेत्रों के विपरीत संकेत सूक्ष्म हो सकते हैं।

हाथ और आँख का समन्वय: गुणवत्ता वाली छवियां प्राप्त करने के लिए, डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर को स्क्रीन पर जो कुछ भी दिखाई देता है, उसके जवाब में रोगी के शरीर पर उपकरण स्थानांतरित करने में सक्षम होना चाहिए।

पारस्परिक कौशल: नैदानिक चिकित्सा सोनोग्राफर को रोगियों के साथ मिलकर काम करना चाहिए। कभी-कभी रोगी अत्यधिक दर्द या मानसिक तनाव में होते हैं, और सोनोग्राफर को उपयोगी चित्र बनाने के लिए रोगी से सहयोग प्राप्त करना चाहिए।

सहनशक्तिः डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर लंबे समय तक अपने पैरों पर काम करते हैं और उन रोगियों को उठाने और स्थानांतरित करने में सक्षम होना चाहिए जिन्हें सहायता की आवश्यकता है।

तकनीकी कौशल: नैदानिक चिकित्सा सोनोग्राफ़रों को समझना चाहिए कि जटिल मशीनरी और कम्प्यूटरीकृत उपकरणों को कैसे संचालित किया जाए।

सेवा अभिविन्यास: सक्रिय रूप से लोगों की मदद करने के तरीकों की तलाश में सदैव त्तपर रहना चाहिए।

डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर की शैक्षणिक योग्यता

डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर के रुप में करियर बनाने के लिए जीव विज्ञान के साथ उच्च माध्यमिक शिक्षा को मुख्य विषय के रूप में पूरा करने के बाद, छात्र नैदानिक चिकित्सा सोनोग्राफी कार्यक्रमों में स्नातक की डिग्री के लिए प्रवेश ले सकते हैं। इसके बाद आप एमएएसी भी कर सकते हैं।

डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर की करियर संभावनाएं

डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर सकते हैं। वह अस्पततालों के लैब में कार्य कर सकते हैं, सरकारी एवं गैर सरकारी लैब में डायग्नोस्टिक मेडिकल सोनोग्राफर के रुप में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

हेल्थकेयर में करियर विकल्पों की अन्य सूची के लिए नीचे क्लिक करें

Connect me with the Top Colleges