Get All India Board Examination Results 2020

एग्रीकल्चर में करियर

क्या आपको लहराते खेत, सुंदर फसलें अच्छी लगती है। क्या आप कृषि के क्षेत्र में अपना करियर बनाने की सोच रहे हैं? तो यह सही समय है आपके विचार करने का। भारत आज भी एक कृषि प्रधान देश है, लेकिन ऐसा नहीं है कि कृषि केवल पारंपरिक किसानों के लिए ही है। आज के युवा भी आधुनिक तरीके से खेती करके या एग्रीकल्चर से जुड़े काम करके अच्छे पैसे कमा सकते हैं। वैज्ञानिक तरीके से ऐसी खेती करने से आत्म-सम्मान के साथ-साथ समाज में एक अलग पहचान और बेहतर मुनाफे के रास्ते भी खुले हैं। देश की काफी बड़ी आबादी आज भी कृषि क्षेत्र से ही रोजगार पाती है। कृषि क्षेत्र में मौजूद विकास की व्यापक संभावनाओं को भांपते हुए आईटीसी, मोनसेंटो और रिलायंस जैसी बड़ी कंपनियां इस क्षेत्र में उतर चुकी हैं। फसलों से जुड़े शोध कार्यक्रमों में भी कृषि विशेषज्ञों की मांग तेजी से बढ़ रही हैं। ऐसे में इस कृषि क्षेत्र को अपना करियर विकल्प चुनकर आप इसमें बेहतरीन करियर बना सकते हैं।

आज के समय में अधिकांश उद्योग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि से जुड़े हैं। कुर्सी की की वो सीट जिस पर आप बैठ रहे हैं तथा जिस लेख या पेपर को आप पढ़ रहे हैं, वह सभी उत्पाद कृषि से प्राप्त हुए हैं। कृषि केवल खाद्य और अनाज के उत्पादन के बारे में नहीं है। कृषि का क्षेत्र काफी व्यापक है। कृषि पर निर्भर कई उद्योगों को कृषि से अपने महत्वपूर्ण कच्चे माल मिलते हैं।

वे दिन गए जब कृषि सिर्फ खेती और सिंचाई के लिए थी। मीडिया और संचार या स्वास्थ्य और जैव विज्ञान में अन्य करियर की तरह कृषि में बड़े पैमाने पर तकनीकी परिवर्तन हुए हैं। कृषि वैज्ञानिक, कृषि पत्रकारिता, पादप रोग विज्ञान, डेयरी प्रौद्योगिकी और पोल्ट्री फार्मिंग के रूप में कई काम करते हैं।

यदि आपके पास एक विज्ञान पृष्ठभूमि है और प्रयोग करने में रुचि है, तो आप एक कृषि वैज्ञानिक के रूप में अपना कैरियर चुन सकते हैं। एग्रीबिजनेस भी इस क्षेत्र में एक बहुत बड़ा करियर विकल्प है। व्यावसायिक पृष्ठभूमि वाले लोग विपणन और व्यापारिक विशेषज्ञ, बिक्री प्रतिनिधि, कृषि अर्थशास्त्री, लेखाकार, वित्त प्रबंधक और कमोडिटी व्यापारी के रूप में रोजगार पा सकते हैं।

अगर आप भी कृषि अनुसंधान के क्षेत्र से जुड़कर कृषि वैज्ञानिक या फिर एक बेहतर किसान बनना चाहते हैं तो फिर इसके लिए आपको 12वीं की परीक्षा अच्छे अंकों से पास कर बीएससी एग्रीकल्चर या फिर बीएससी एग्रीकल्चर ऑनर्स की डिग्री हासिल करनी चाहिए। यह डिग्री एग्रीकल्चर, वेटरनरी साइंस, एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग, फॉरेस्टरी, हॉर्टीकल्चर, फूड साइंस और होम साइंस में से किसी भी एक विषय में ले सकते हैं। अपनी पढ़ाई पूरी करके आप सीधे खेती और इससे संबंधित गतिविधियों से जुड़कर कृषि क्षेत्र में देश के विकास में अपना अहम योगदान दे सकते हैं।

भारत में कृषि करियर का दायरा

भारत की लगभग 70 फीसदी जनसंख्या अभी भी जीविका के लिए कृषि पर निर्भर है। हर बढ़ता हुआ कृषि उद्योग कृषि पेशेवरों को कई करियर विकल्प प्रदान करता है। इस क्षेत्र में उद्यमशीलता समृद्ध पुरस्कारों को प्राप्त कर सकती है जबकि विभिन्न सरकारी और निजी चिंताओं के साथ वेतनभोगी नौकरियां भी नियमित और सुरक्षित आय प्रदान करती हैं। कृषि पेशेवर केंद्र और राज्य सरकार दोनों मंत्रालयों में रोजगार की तलाश कर सकते हैं। कुछ स्थानों पर जहां कृषि पेशेवर रोजगार पा सकते हैं उनमें कृषि वित्त निगम, अनुसंधान संस्थान ग्रामीण बैंक, कृषि विज्ञान केंद्र, कृषि - उद्योग क्षेत्र, कृषि विश्वविद्यालय और विभिन्न कृषि सेवा संगठन शामिल हैं। उनकी कार्य प्रोफ़ाइल में कीट नियंत्रण, पादप रोगों का क्षेत्र नियंत्रण, खाद्य विज्ञान और पोषण, सर्वेक्षण और रिपोर्ट का संचालन करना आदि शामिल हैं। बागवानी, डेयरी और पोल्ट्री फार्मिंग, कृषि पत्रकारिता, फूलों की खेती, मत्स्य पालन, आदि ऐसे कुछ क्षेत्र हैं जो अच्छी करियर क्षमता प्रदान करते हैं।
हर राज्य में कृषि विभाग राजकीय सेवा आयोग (SSC) के माध्यम से राजपत्रित अधिकारियों जैसे जिला कृषि अधिकारी, सहायक निदेशक कृषि की नियुक्ति करता है। कृषि विकास अधिकारी (ADO) या खंड विकास अधिकारी (BDO) के पद पर भर्ती भी लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के माध्यम से होती है। नेशनेलाइज्ड बैंकों में आपकी नियुक्ति कृषि विस्तार अधिकारी, ग्रामीण विकास अधिकारी, फील्ड ऑफिसर के रूप में हो सकती है. इसके अलावे ग्रामीण बैंकों, सहकारी बैंकों, राज्यों के विभिन्न कृषि विभागों में भी आपके रोजगार की संभावनाएं बडे पैमाने पर उपलब्ध हैं. अगर आप चाहें तो शिक्षण, शोध, मार्केटिंग, एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग या मैनेजमेंट के क्षेत्र में भी अपने लिए रोजगार ढूंढ सकते हैं।

नीचे एग्रीकल्चर से जुड़े करियर के अन्य विकल्प दिए गए हैंः

Connect me with the Top Colleges